comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Auto Expo 2020: Maruti Suzuki ने Futuro-E के जरिए दिखाई भविष्य की योजना


हाईलाइट

  • माना जा रहा ​है कि यह एक इलेक्ट्रिक एसयूवी कॉन्सेप्ट है
  • इस कॉन्सेप्ट -Coupe कार का डिजाइन प्रीमियम नजर आता है
  • इंटीरियर काफी मॉडर्न है और इसमें कई इनोवेशन किए गए हैं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी Maruti Suzuki (मारुति सुजुकी) ने ऑटो एक्सपो 2020 में अपनी फ्यूचर SUV Futuro-E (फ्यूचुरो -ई) कॉन्सेप्ट से पर्दा उठा दिया है। इस कार को कंपनी ने मिशन ग्रीन मिलियन के तहत डिजाइन किया है। FUTURO-e के जरिए कंपनी ने अपने भविष्य की ग्रीन मोबिलिटी योजना को दर्शाने की कोशिश की है।

इस कॉन्सेप्ट एसयूवी के नाम में 'E' जुड़ा है, ऐसे में माना जा रहा है कि यह इलेक्ट्रिक एसयूवी कॉन्सेप्ट है। मारुति का दावा है कि एसयूवी-कूप कॉन्सेप्ट हाइब्रिड और प्योर इलेक्ट्रिक जैसे पावरट्रेन ऑप्शन्स के साथ भविष्य के लिए तैयार है। आइए जानते हैं इस कार के बारे में...

Auto Expo 2020: Skoda Vision IN में मिलेंगे दमदार फीचर्स

एक्सटीरियर
Maruti की इस कॉन्सेप्ट -Coupe कार का डिजाइन प्रीमियम नजर आता है। इसके फ्रंट पैनल में हेडलाइट दिखाई दे रही हैं, जो कि काफी स्टाइलिश हैं। Futuro-e का फ्रंट लुक काफी बोल्ड है और पीछे लंबी और पतली टेललाइट काफी यूनीक हैं। इस कार के रियर विंडस्क्रीन की रेक Futuro-e को स्पोर्टी लुक देता है। इसके अलावा कार पर शार्प लुक वाला ग्लासहाउस और मोटा सी-पिलर कदया गया है। यह  एक 4-सीटर कार है।

इंटीरियर
बात करें इंटीरियर की तो यह काफी मॉडर्न है और इसमें इनोवेशन और इंटेलिजेंस को शामिल किया गया है। ये जियो ऑरगैनिक स्ट्रक्चरल फॉर्म्स के साथ डिजाइन किया गया है। डैशबोर्ड पर बड़ी स्क्रीन दी गई है। फ्यूचरिस्टिक स्टीयरिंग के आगे डिस्प्ले दिया गया है, जिसमें ड्राइवर और इंटीरियर के लिए कंट्रोल्स हैं। इसमें फ्यूचीरिस्टिक ब्लू और आइवरी हाई कॉन्ट्रास्ट कलर स्कीम दिया गया है। इस एसयूवी में ऐम्बिएंट लाइटिंग भी मिलेगी। 

Maruti Suzuki Swift के हाइब्रिड वर्जन से उठा पर्दा

कीमत
बात करें इस इलेक्ट्रिक SUV-Coupe कार की कीमत की तो इसे 15 लाख रुपए के आसपास की कीमत में लॉन्च किया ​जा सकता है। फिलहाल इसको लेकर कंपनी ने कोई जानकारी नहीं दी है।

Video Source: Autocar India

कमेंट करें
V1x9w
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।