comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

रेस 3 के बाद बॉबी देओल ने खुदको गिफ्ट की Range Rover Sport

June 29th, 2018 09:11 IST
रेस 3 के बाद बॉबी देओल ने खुदको गिफ्ट की Range Rover Sport

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रेस 3 की कामयाबी के बाद से बॉबी देओल खुश नजर आ रहे हैं।जहां इस फिल्म ने रेटिंग के मामले में कोई कमाल नहीं किया, वहीं कमाई के मामले में फिल्म काफी अच्छा प्रदर्शन कर रही है। बॉबी देओल की ऐक्टिंग को भी काफी सराहा गया है। हाल ही में देओल फैमिली के छोटे बेटे बॉबी को यह खुशी सेलिब्रेट करने का एक बेहतरीन रास्ता मिला है और इस बॉलीवुड अभिनेता ने रेन्ज रोवर स्पोर्ट की डिलिवरी ली है। इस लग्जरी SUV की कीमत लगभग 1.2 करोड़ रुपये है। यह एक बेहतरीन कार है और देओल फैमिली पहले से लग्जरी कारों की शौकीन रही है। नई रेन्ज रोवर स्पोर्ट इस गैराज में SUV होगी।

Image result for Range Rover Sport

ये भी पढ़ें : Porsche 911 GT2 RS की लॉन्च डेट का खुलासा, हवा से बातें करती है ये कार

बॉबी देओल की खरीदी रेन्ज रोवर स्पोर्ट 2017 एडिशन है, वहीं कार के 2018 वेरिएंट की बुकिंग अप्रैल 2018 में ही शुरू की जा चुकी है जिसे बाद में अनवील किया जाएगा। बॉबी ने इस दमदार SUV का डीजल वेरिएंट चुना है और इसमें 3.0-लीटर का SDV6 ऑयल बर्नर इंजन लगाया गया है जो 255 bhp पावर और 600 Nm पीक टॉर्क जनरेट करता है। कंपनी ने इस इंजन को 8-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स से लैस किया है। रेन्ज रोवर स्पोर्ट ना सिर्फ आरामदायक लग्जरी कार है, बल्की इसकी ऑफ-रोड क्षमता भी अच्छी है।

ये भी पढ़ें : Force Gurkha Xtreme का ब्रोशर लीक, जानिए SUV के बारे में सबकुछ

Image result for range rover sport interior

ये भी पढ़ें : Ducati Multistrada 1260 Pikes Peak एडिशन इंडिया में लॉन्च

2019 रेन्ज रोवर स्पोर्ट में पिक्सल-लेजर LED हैडलाइट्स, नई एटलस मेश ग्रिल डिजाइन और टच प्रो डुओ इंफोटेनमेंट सिस्टम जैसे स्टाइलिंग क्यू और फीचर्स दिए गए हैं। नई रेन्ज रोवर और रेन्ज रोवर स्पोर्ट के साथ पिछली सीटिंग का बेहतरीन विकल्प दिया गया है जिसमें पावर डिप्लॉयेबल सेंट्रल कंसोल, हीटेड सीट्स के साथ हॉटा स्टोन मसाज फंक्शन, हाथ के इशारे पर खुलने और बंद होने वाला गेस्चर कंट्रोल्ड सनब्लाइंड और अडाप्टिव क्रूज कंट्रोल दिया गया है। रेन्ज रोवर स्पोर्ट के अलावा बॉबी देओल के पास लैड रोवर फ्रीलैंडर 2, रेन्ज रोवर वोग, W211 मर्सडीज-बैंज S-क्लास और पॉर्श कायेन जैसी कारें हैं। देओल फैमिली में ही पॉर्श 911 और रेन्ज रोवर इवोक जैसी कारें भी मॉजूद हैं।

Image result for sunny deol range rover

कमेंट करें
FX1Rq
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।