comScore

Tata Safari 14.69 लाख की कीमत में हुई लॉन्च, जानें इस एसयूवी की खासियत

Tata Safari 14.69 लाख की कीमत में हुई लॉन्च, जानें इस एसयूवी की खासियत

हाईलाइट

  • सफारी की शुरुआती कीमत 14.69 लाख रुपए है
  • टॉप वेरिएंट की कीमत 21.45 लाख रुपए है
  • लैंड रोवर D8 से प्रेरित OMEGARC प्लेटफॉर्म पर बनी है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी वाहन निर्माता कंपनी Tata Motors (टाटा मोटर्स) ने आइकॉनिक एसयूवी Safari (सफारी) को भारत में लॉन्च कर दिया है। वेरिएंट इस एसयूवी को कुल 6 वेरिएंट XE, XM, XT, XT +, XZ और XZ + में उतारा गया है। बता दें कि भारतीय सड़कों पर 90 के दशक में राज करने वाली इस एसयूवी के नए अवतार से कंपनी ने 26 जनवरी को पर्दा उठाया था। इसके बाद इसकी बुकिंग भी शुरू कर दी गई थी। 

बात करें कीमत की तो 2021 Tata Safari को 14.69 की शुरुआती एक्स-शोरूम कीमत में लॉन्च किया गया है। इस एसयूवी को कंपनी की पॉपुलर इंपैक्ट 2.0 डिजाइन भाषा पर तैयार किया गया है और यह लैंड रोवर D8 से प्रेरित ओमेगाआरसी (OMEGARC) प्लेटफॉर्म पर आधारित है।  

Renault Kiger भारत में हुई लॉन्च, जानें इस एसयूवी की कीमत और फीचर्स

इंजन और पावर
2021 Tata Safari में कंपनी ने 2.0 लीटर की क्षमता वाला दमदार Kryotec टर्बो डीजल इंजन दिया है। यह इंजन 170hp और 350 एनएम का पीक टॉर्क जेनरेट करता है। इस इंजन के साथ 6 स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन और 6 स्पीड टॉर्क कन्वर्टर ऑटोमेटिक गियरबॉक्स दिया गया है। कंपनी का दावा है कि नई सफारी ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन के साथ 14.8 kmpl का माइलेज देने में सक्षम होगी।

फीचर्स
नई सफारी का केबिन ऑयस्टर व्हाइट कलर स्कीम पर आधारित है। इसमें कैप्टन सीट्स के साथ सिक्स सीटर लेआउट और सेवन सीटर कंफिगरेशन का ऑप्शन मिलता है। इसके केबिन में  8.8 इंच का फ्लोटिंग आइलैंड टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, 9.स्पीकर जेबीएल म्यूजिक सिस्टम, 7 इंच डिस्प्ले वाला इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर, एचवीएसी के साथ ऑटोमैटिक क्लाइमेट कंट्रोल और 6 वे पावर्ड ड्राइवर सीट और टीपीएमएस मिलता है। 

Skoda Kushaq से अगले माह उठेगा पर्दा, जानें कितनी खास होगी ये एसयूवी

सुरक्षा
सुरक्षा के लिहाज से नई सफारी में 6 एयरबैग, आल 4 डिस्क ब्रेक और इलेक्ट्रिक पार्किंग ब्रेक दिए गए हैं। इसके अलावा मूड लाइटिंग, ऑटो डिमिंग IRVM और एक मनोरम सनरूफ जैसे फीचर्स भी इसमें दिए गए हैं।

सभी वेरिएंट की कीमत

वेरिएंट

कीमत

XE    

14.69 लाख रुपए 

XM    

16.00 लाख रुपए

XMA    

17.25 लाख रुपए

XT    

17.45 लाख रुपए

XT+    

18.25 लाख रुपए

XZ    

19.15 लाख रुपए

XZA    

20.40 लाख रुपए

XZ+    

19.99 लाख रुपए

XZA+    

21.25 लाख रुपए

XZ+ एडवेंचर एडिशन

20.20 लाख रुपए

XZA+ एडवेंचर एडिशन

21.45 लाख रुपए


 

कमेंट करें
G72on
कमेंट पढ़े
Harshal April 12th, 2021 15:40 IST

Nice your tata safari ka price thanks

NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।