comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

बाइक: Yamaha FZ 25 और FZS 25 बीएस6 इंजन से हुई लैस, जानें कितनी बढ़ गई कीमत

बाइक: Yamaha FZ 25 और FZS 25 बीएस6 इंजन से हुई लैस, जानें कितनी बढ़ गई कीमत

हाईलाइट

  • दोनों बाइक्स को इस साल फरवरी में पेश किया गया था
  • Yamaha FZS 25 का दाम 1.57 लाख रुपए रखी गई है
  • Yamaha FZ 25 की कीमत 1.52 लाख रुपए रखी गई है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जापानी कंपनी Yamaha (यामाहा) ने अपनी दो बाइक FZ 25 (एफजेड 25) और FZS 25 (एफजेडएस 25) को BS6 मानक वाले इंजन के साथ लॉन्च कर दिया है। दोनों अपडेटेड मोटरसाइकल्स को 10 हजार रुपए में बुक किया जा सकता है। आपको बता दें कि FZ 25 और FZS 25 BS6 बाइक्स को इस साल फरवरी में पेश किया गया था। वहीं इनकी बिक्री अप्रैल में शुरू होनी थी, लेकिन कोरोनावायरस महामारी के चलते इनकी लॉन्चिंग में देरी हुई है। 

Yamaha FZ 25 बाइक मेटैलिक ब्लैक और रेसिंग ब्लू कलर में उपलब्ध है। वहीं, FZS 25 तीन कलर ऑप्शन पेटिना ग्रीन, वाइट-वर्मिलियन और डार्क मैट ब्लू में मिलेगी। आइए जानते हैं इनकी कीमत और पावर के बारे में...

नई Honda X-Blade बाइक भारत में हुई लॉन्च, हुए ये बदलाव

कीमत
नए इंजन के साथ ही दोनों बाइक की कीमत में भी बढ़ोतरी हो गई है। BS6 Yamaha FZ 25 की कीमत 1.52 लाख रुपए रखी गई है। वहीं, BS6 Yamaha FZS 25 का दाम 1.57 लाख रुपए है। देखा जाए पुराने BS4 मॉडल के मुकाबले FZ 25 की कीमत में करीब 15 हजार रुपए का इजाफा हुआ है। वहीं FZS 25 की कीमत में भी 5 हजार रुपए की बढ़ोतरी हो गई है। 

इंजन और पावर
Yamaha की दोनों बाइक में समान BS6 249cc एयर-कूल्ड, SOHC, 4-स्ट्रोक, सिंगल-सिलिंडर इंजन दिया गया है। यह इंजन फ्यूल-इंजेक्शन टेक्नॉलजी से लैस है, जो कि 8,000 rpm पर 20.8ps का पावर और 6,000 rpm पर 20.1 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। 

Hero Xtreme 160R भारत में हुई लॉन्च, जानें कीमत और खूबियां

फीचर्स
फीचर्स की बात करें, तो अपडेटेड बाइक्स में मल्टी-फंक्शन निगेटिव एलसीडी इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर, LED DRL, क्लास D बाइ-फंक्शनल LED हेडलैम्प, अंडर काउलिंग और इंजन कट-ऑफ स्विच के साथ साइड स्टैंड जैसे फीचर दिए गए हैं। वहीं FZS-25 में लॉन्ग वाइजर, हैंडल ग्रिप्स पर ब्रश गार्ड्स और गोल्डन अलॉय वील्ज मिलते हैं। इसके अलावा सुरक्षा के मद्देनजर दोनों बाइक में ड्यूल-चैनल एबीएस दिया गया है।

कमेंट करें
ji395
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।