दैनिक भास्कर हिंदी: रेलवे की कैटरिंग सेवा होगी महंगी, लगेगा 5% GST

April 7th, 2018


 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली । साल 2017 में लागू हुए गुड्स एंज सर्विसेज टैक्स (GST) के बाद से कई चीजें महंगी हुई, लेकिन सबसे ज्यादा असर बाहर खाना खाने पर पड़ा। GST के बाद से रेस्टोरेंट में खाना खाना काफी महंगा हो गया है और अब यही खाने पर महंगाई की मार भारतीय रेलवे की पैंट्री पर पड़ने वाली है। IRCTC की ओर से ट्रेन पर मिलने वाले खाने और पीने की चीजों पर 5% जीएसटी लगाया जाएगा। वित्त मंत्रालय ने 31 मार्च को रेलवे बोर्ड को लिखकर स्पष्ट किया था कि ट्रेन, स्टेशन या प्लेटफॉर्म पर खाने और पीने की चीजों पर 5% GST की लिया जाएगा। इस कदम से ट्रेन, स्टेशन और प्लेफॉर्म में पर मिलने वाली चीजों की कीमतों में समानता रहेगी।

मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, 'इस बात को स्पष्ट किया जाता है कि भारतीय रेलवे या रेलवे कैटरिंग एण्ड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड या उनके लाइसेंसधारियों की ओर से ट्रेन या प्लेटफॉर्म दिए जाने वाले खाने और पीने की चीजों पर पांच फीसद जीएसटी लगेगा जिसमें इनपुट टैक्स क्रेडिट शामिल नहीं होगा।' गौरतलब है कि देशभर में वस्तु एवं सेवा कर एक जुलाई, 2017 को लागू किया गया था।

 

 

Indian railway food service के लिए इमेज परिणाम

 

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पिछले दिनों ट्रेन और स्टेशन पर खानपान में यात्रियों से अवैध वसूली रोकने के लिए बिल अनिवार्य कर दिया। इस आदेश के बाद GST में रेलवे का खेल सामने आ गया। स्टेशन पर खानपान में जहां पांच फीसदी GST वसूला जा रहा है, वहीं इसी खाने पर ट्रेन में 18 फीसदी टैक्स लिया जा रहा है।

 

Indian railway food service के लिए इमेज परिणाम

 

शताब्दी-राजधानी में तो टिकट में ही यात्रियों से 18 फीसदी GST लिया जा रहा है, जबकि अन्य ट्रेनों में भी 18 फीसदी GST लिया जाता है। हालांकि, स्टेशन पर पहले GST 12 फीसदी था, जिसे घटाकर पांच फीसदी कर दिया गया। जारी एक सर्कुलर के मुताबिक एक जुलाई से 18 फीसदी GST लेने का आदेश जारी किया गया था, ये भी स्पष्ट किया गया कि शताब्दी-राजधानी और दुरंतो के टिकट किराए में ही जीएसटी जुड़ा होगा।