comScore

Coronavirus: नोटों की छपाई 31 मार्च तक बंद हुई, नासिक करंसी प्रेस ने लिया निर्णय

Coronavirus: नोटों की छपाई 31 मार्च तक बंद हुई, नासिक करंसी प्रेस ने लिया निर्णय

हाईलाइट

  • छपाई बंद करने से पहले ही लक्ष्य हालिस किया
  • नोट छपाई बंद करने का निर्णय मिलकर लिया गया
  • 31 मार्च तक नहीं होगी नए नोटों की छपाई

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोनावायरस (Coronavirus) अपना कहर बरपा रहा है। इसका असर हर क्षेत्र में देखने को मिल रहा है। इस महामारी को बढ़ते देख बीते दिनों बैंकों ने अपने ग्राहकों से कैश की जगह डिजिटल ट्रांजैक्शन करने की अपील की थी। वहीं अब हालात यहां तक आ पहंचे हैं कि कोरोना की वजह से नोटों की छपाई पर भी रोक लग गई है। 

यानी कि अब नए नोट बाजार में नहीं आएंगे। यह निर्णय नासिक करंसी नोट प्रेस ने लिया है। जिसके तहत 31 मार्च तक कामकाज बंद रहेगा। आपको बता दें कि कोरोनावायरस के चलते दुनियाभर में लॉकडाउन की स्थिति देखी जा रही है। वहीं देश के कई राज्यों में यह लागू किया गया है।

1 अप्रैल से बदल रहा है टैक्स से जुड़ा ये नियम, पैन नंबर नहीं होने पर देना होगा दोगुना टैक्स

मिलकर लिया निर्णय
फिलहाल बात करें बैंक नोट छपाई के बंद होने की तो, करंसी नोट प्रेस के यूनियन नेता जगदीश गोडसे का कहना है कि, छपाई बंद करने से पहले 20 मार्च तक हमने छपाई का 99 फीसदी लक्ष्य हासिल कर लिया है। ऐसे में हमने मिलकर 31 मार्च तक नोट छपाई का काम बंद करने का निर्णय लिया है। 

इंडिगो ने की कर्मचारियों के लिए वेतन कटौती की घोषणा

SBI ने की अपील
वहीं अब देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने ट्वीट कर लोगों से कैश का उपयोग करने की अपील की है। एसबीआई ने अपने ट्वीट में कहा है, कि कई लोग नोटों की गिनती  करते समय थूक का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में वायरस फैलने का खतरा काफी होता है। इससे बचाव के लिए नोट के इस्तेमाल से बचने की कोशिश करें। 

बीते दिनों आरबीआई ने दिए थे निर्देश
आपको बता दें कि बीते दिनों भारतीय रिजर्व बैंक ने पिछले दिनों कहा था कि लोगों को कार्ड इत्यादि और नकदी का उपयोग करने से बचना चाहिए। इसके लिए बैकों को निर्देश भी दिए गए थे कि वे अपने ग्राहकों को डिजिटल ट्रांजेक्शन के लिए प्रात्साहित करें। 

कमेंट करें
yldmZ