नागरिक उड्डयन: जनवरी-जून की अवधि में घरेलू हवाई यातायात में 66.73 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई

July 22nd, 2022

हाईलाइट

  • जनवरी-जून की अवधि में घरेलू हवाई यातायात में 66.73 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में विमानन यातायात लगातार बढ़ रहा है, डीजीसीए के आंकड़ों से पता चलता है कि जनवरी से जून की अवधि में घरेलू एयरलाइनों के यात्रियों की संख्या 66.73 प्रतिशत बढ़कर 343.37 लाख से 572.49 लाख हो गई। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय के आंकड़ों ने कहा कि यह 237.65 प्रतिशत की मासिक वृद्धि को भी दर्शाता है।

इंडिगो के लिए पैसेंजर लोड फैक्टर (पीएलएफ) या अधिभोग दर जून में 78.6 प्रतिशत, स्पाइसजेट के लिए 84.1 प्रतिशत, विस्तारा के लिए 83.8 प्रतिशत, एयर इंडिया के लिए 75.4 प्रतिशत, एयर एशिया के लिए 75.8 प्रतिशत, गोफस्र्ट के लिए 78.7 प्रतिशत, जून में एलायंस एयर के लिए 66.9 प्रतिशत, फ्लाई बिग के लिए 54.2 प्रतिशत और स्टार एयर के लिए 81.8 प्रतिशत थी।

डीजीसीए की जून की रिपोर्ट में कहा गया है कि महीने के लिए अनुसूचित घरेलू एयरलाइंस की कुल रद्दीकरण दर 0.59 प्रतिशत दर्ज की गई है। अप्रैल-जून की अवधि में इंडिगो की सबसे बड़ी बाजार हिस्सेदारी 56.3 फीसदी थी, इसके बाद गो फस्र्ट में 10.4 फीसदी, स्पाइसजेट की 9.7 फीसदी, विस्तारा की 8.9 फीसदी और एयर इंडिया की 7.5 फीसदी हिस्सेदारी थी।

आंकड़ों के मुताबिक, घरेलू एयरलाइंस को जून में कुल 570 शिकायतें मिली थीं। रिपोर्ट में कहा गया है, जून 2022 के महीने में प्रति 10,000 यात्रियों पर शिकायतों की संख्या लगभग 0.54 रही है। सबसे ज्यादा शिकायतें एलायंस एयर को मिलीं और सबसे कम विस्तारा को मिली।

आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.