comScore

रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन में एमएसपी में वृद्धि की अहम भूमिका : सीएसीपी चेयरमैन

June 11th, 2020 19:31 IST
 रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन में एमएसपी में वृद्धि की अहम भूमिका : सीएसीपी चेयरमैन

हाईलाइट

  • रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन में एमएसपी में वृद्धि की अहम भूमिका : सीएसीपी चेयरमैन

नई दिल्ली, 11 जून (आईएएनएस)। भारत बीते चार साल से खाद्यान्नों के उत्पादन में हर साल नया रिकॉर्ड बना रहा है और कोरोना काल की विषम परिस्थितियों के बावजूद अगले साल फिर नया रिकॉर्ड बनने की उम्मीद की जा रही है क्योंकि मानसून इस साल फिर मेहरबान रहने वाला है।

लेकिन इस उपलब्धि के पीछे फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में मोदी सरकार द्वारा हाल के वर्षो में की गई वृद्धि और सरकारी खरीद को प्रोत्साहन की भी अहम भूमिका रही है। कृषि विशेषज्ञ बताते हैं कि इससे किसानों का मनोबल ऊंचा होता है।

कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी) के अध्यक्ष विजय पॉल शर्मा कहते हैं कि एमएसपी में वृद्धि से किसानों के बीच सकारात्मक संदेश जाता है और फसलों का लाभकारी दाम मिलने की उम्मीदों से वे उत्साहित होते हैं।

केंद्र सरकार सीएसीपी की सिफारिश के आधार पर ही गन्ना का लाभकारी मूल्य यानी एफआरपी और 22 अन्य फसलों का एमएसपी तय करती है। इन फसलों में सात सात अनाज, पांच दलहन, सात तिलहन और गन्ना समेत चार नकदी फसल शामिल हैं।

सीएसीपी के अध्यक्ष प्रोफेसर विजय पॉल शर्मा ने आईएएनएस से खास बातचीत में कहा, एमएसपी में जो बढ़ोतरी रही उसका बेशक काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ा और खाद्यान्न उत्पादन में इजाफा होने में इसकी अहम भूमिका है, लेकिन गैर-मूल्य के जो कारक हैं जैसे कृषि क्षेत्र में संरचनात्मक और प्रौद्योगिकी विकास का भी इसमें योगदान है।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा हाल ही में जारी फसल वर्ष 2019-20 (जुलाई-जून) के तीसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार इस साल देश में खाद्यान्नों का रिकॉर्ड 29.56 करोड़ टन उत्पादन हो सकता है जबकि सरकार ने अगले साल 2020-21 के लिए 29.83 करोड़ टन का लक्ष्य रखा है। बता दें कि देश में खाद्यान्नों का उत्पादन 2016-17 के दौरान 27.51 करोड़ टन और 2018-19 में 28.52 करोड़ टन हुआ था।

देश में एमएसपी की प्रणाली बीते चार दशक से ज्यादा समय से लागू है, लेकिन मोदी सरकार के आने के बाद इसमें किए गए बदलाव के बारे में पूछे जाने पर प्रोफेसर शर्मा ने कहा, सरकार ने अब हर फसल की लागत पर कम से कम 50 फीसदी मार्जिन किसानों को देना सुनिश्चत कर दिया है। पहले काफी सारी फसलों का एमएसपी लागत के मुकाबले काफी लाभकारी नहीं होता था। यह एक महत्वपूर्ण फैसला है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा सरकारी खरीद को प्रोत्साहित किया गया जिसमें धान और गेहूं के अलावा दलहन और तिलहन फसलों की खरीद भी होने लगी है जिससे किसान उत्साहित हुए हैं। उन्होंने कहा कि कपास की इस साल रिकॉर्ड सरकारी खरीद हुई है। शायद यही वजह है कि घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में रूई के दाम में भारी गिरावट के बावजूद भारत में कपास की खेती के प्रति किसानों की दिलचस्पी कम नहीं हुई है।

इसी तरह, धान और गेहूं की सरकारी खरीद व्यापक पैमाने पर होने से किसानों का एमएसपी का लाभ मिल रहा है जिसके कारण दोनों फसलें लगाने के प्रति किसानों की दिलचस्पी ज्यादा रहती है, जबकि इसमें दो राय नहीं कि किसानों को जिन फसलों का अच्छा दाम मिलता है उसकी खेती करने के प्रति उनकी दिलचस्पी बढ़ती है। मसलन, वर्ष 2015-16 में दलहनों का उत्पादन 163.2 लाख टन होने के कारण देश में तमाम दालों के दाम आसमान छू गए थे जिससे उत्साहित किसानों ने दलहनों की खेती में काफी दिलचस्पी दिखाई और 2017-18 में दहलनों का उत्पादन बढ़कर 254.2 लाख टन हो गया जोकि सालाना खपत से भी ज्यादा था। हालांकि इसके बाद दलहनों का उत्पादन 2018-19 में घटकर 220.8 लाख टन और 230.1 लाख टन हो गया। प्रोफेसर शर्मा कहते हैं कि बीते खरीफ सीजन में बारिश के कारण फसल खराब होने के कारण इस साल दलहनों का उत्पादन कम रहा है।

केंद्र सरकार ने हाल ही में आगामी खरीफ सीजन की 14 फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में लागत के मुकाबले 50 से 83 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है।

कमेंट करें
sgCEe
NEXT STORY

डिजिटल इंडिया को गति देता रोहित मेहता का Startup Digital Gabbar

डिजिटल इंडिया को गति देता रोहित मेहता का Startup Digital Gabbar

डिजिटल डेस्क,भोपाल। "सफलता सिर्फ उनको नहीं मिलती जो सफल होने की इच्छा रखते है, सफल हमेशा वही होता है जो आगे बढ़ कर उन्हे पाने की चाहत रखते है।" ये उद्धहरण उनके लिए नहीं है जो आराम की जिंदगी को छोड़ कर बाहर नहीं निकालना चाहते, बल्कि ये उनपे लागू होती है जो निरंतर प्रयास करते रहते है।

इसी तर्ज पर चलते हुए, बिहार के पटना के शहर से आने वाले आईटी और तकनीक प्रेमी डबल मास्टर्स डिग्री धारी ने डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में उल्लेखनीय यात्रा शुरू की थी, लेकिन आज वो इस मुकाम पर पहुँचे जाएंगे उन्होंने ऐसा नहीं सोचा होगा, की कुछ साल बाद, वह उन युवाओं के लिए प्रेरणा बनेंगे जो digital content curation में करियर बनाने की इच्छा रखते हैं।

उक्त व्यक्ति और कोई नहीं, बल्कि प्रसिद्ध digital marketer रोहित मेहता हैं, जो एक ब्लॉगर के रूप में उत्कृष्ट हैं और एक प्रख्यात आईटी विशेषज्ञ हैं, जिन्होंने अपनी ज्ञानवर्धक ई-पुस्तकों के साथ दुनिया के साथ अपने ज्ञान को साझा करते हुए कई अहम भूमिकाएँ निभाई हैं।

एक दशक से अधिक की अवधि के लिए IT industry में काम करने के बाद, रोहित मेहता ने खुद को एक ऐसे tech blogger के रूप में प्रतिष्ठित किया है जो अपने पाठकों के साथ ऐसी तकनीकी ज्ञान को साझा करता है जो उन्हें बेहतर बेहतर बनने में मदद करती है।

हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओ में अपनी किताब को करने वाले रोहित ने ये साबित कर दिया है की डिजिटल मार्केटिंग केवल अंग्रेजी जानने वालों के लिए नहीं है। हिंदी में भी पढ़ कर आप इसे सिख सकते है ओर अपना करियर बन सकते है। इनकी सबसे अधिक लोकप्रिये बुक '15 Proven Secrets of Internet Traffic Mastery' है, जिसमे अपने अनलाईन बिजनस या ब्लॉग पर ट्राफिक (पाठक) लाने के 15 बेहतरीन तरीके बताए है।

आज, रोहित मेहता डिजिटल गब्बर (Digital Gabbar) नामक भारत के सबसे बड़े डिजिटल कंटेंट प्लेटफ़ॉर्म के संस्थापक संपादक हैं, एक अभूतपूर्व विज़न जिसका नेतृत्व डिजिटल उत्साही लोगों के एक समूह द्वारा किया जा रहा है।

जीवन में अपनी विभिन्न गतिविधियों पर रोहित के साथ बातचीत में, वे कहते हैं, " हर दूसरे आदमी की तरह, मैं भी इंटरनेट की दुनिया में नया था जब मैनें इसमे कदम रखा था। शुरू से ही कुछ नया सीखने और उसको साझा करने की चाहते ने मुझे ब्लॉगिंग में अपना करियर शुरू करने की प्रेरणा दी, तब से मैंने पीछे नहीं देखा हर एक नए सुबह के साथ इच्छा सकती मजबूत होती गई, Digital Gabbar शुरू करने से पहले बहुत से ब्लॉग/वेबसाइटें शुरू की मगर खुशी (kick) नहीं मिली”।

"डिजिटल गब्बर केवल एक ड्रीम प्रोजेक्ट नहीं है, बल्कि हमारे पाठकों के साथ जुड़ने का जरिया है जो किसी भी सीमा से परे है। हम ब्लॉगिंग, एफिलिएट से सम्बंधित टिप्स और ट्रिक्स की अपडेटेड जानकारी साझा करते हैं। जैसे : मार्केटिंग, एसईओ, ड्रापशीपिंग, सोशल मीडिया, ऑनलाइन मनी मेकिंग, गाइड्स, ट्यूटोरियल्स और बहुत कुछ।  

डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में एक उल्लेखनीय कैरियर का नेतृत्व करने के बाद, डिजिटल गब्बर की टीम लोकप्रिय डिजिटल मार्केटर्स, ब्लॉगर्स, YouTubers, उद्यमियों के साथ साक्षात्कार की एक श्रृंखला शुरू करने पर विचार कर रही है, ताकि भविष्य में डिजिटल इंडिया उनकी एक झलक दिखा सकें। जीवन की कहानियां जो प्रेरणा मिलती है वो सायद ही किसी और कार्य से मिलती होंगी।

रोहित मेहता के प्रमुख योगदान

आज दूरदर्शी रोहित मेहता ने डिजिटल मार्केटिंग, ब्लॉगिंग, एफिलिएट, एसईओ, ड्रापशीपिंग, सोशल मीडिया, ऑनलाइन मनी मेकिंग मे अनेकों गाइड्स और सुझावों इत्यादि अपने पाठकों के डिजिटल गब्बर पे बिल्कुल मुफ़्त में साझा करते है।

साथ ही अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए नए उधमियों को मुफ़्त मे सलाह भी साझा करते है। @bloggermehta से आप इन्हे फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम,ट्विटर इत्यादि पे संपर्क कर सकते है।

गब्बर रोहित का लक्ष्य

अपने ब्लॉग डिजिटल गब्बर के अनुशार रोहित बताते है की उनका लक्ष्य सिर्फ जानकारी को साझा करना नहीं है, बल्कि डिजिटल इंडिया के युवाओ से उसको अमल भी करवाना चाहते है। ताकि आने वालों कुछ सालों में डिजिटल के क्षेत्र में इंडिया युवा पीढ़ी किसी से काम न रहे। यही कारण है की इन्होंने डिजिटल गब्बर की शुरुवात हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषाओ में एक साथ की है।

https://www.digitalgabbar.com/ और https://www.digitalgabbar.in/ क्रमशः रोहित के इंग्लिश और हिंदी के ब्लॉग है।

साथ ही साथ रोहित मेहता ने अपने जैसे युवाओ और start-up को बढ़ावा देने के लिए Indian Gabbar के नाम से एक साइट शुरू किया है। Digital Gabbar सभी उधमी और startup को Indian gabbar के रूप में संबोधित करते हुए उनकी आर्टिकल को बिल्कुल मुफ़्त में साझा कर रहा है।

कोई भी इच्छुक व्यक्ति या संस्थान आपनी कहानी प्रकाशित करने के लिए Indian Gabbar से संपर्क करें।