दैनिक भास्कर हिंदी: ऑनलाइन ट्रांजैक्शन फेल, प्राइवेट बैंकों के बंद होने की फैली अफवाह, ये थी असली वजह

October 2nd, 2019

हाईलाइट

  • प्राइवेट सेक्टर के बैंकों को लेकर फैली अफवाहों के इंटरनेट बैंकिंग सेवाएं दोबारा रिस्टोर कर दी गई
  • मंगलवार को हजारों ग्राहकों के ऑनलाइन ट्रांजैक्शन फेल हो गए थे
  • ट्रांजैक्शन फेल होने की असली वजह बैंकों का सर्वर डाउन होना था

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरु। प्राइवेट सेक्टर के बैंकों को लेकर फैली अफवाहों के बाद बुधवार को इन बैंकों की इंटरनेट बैंकिंग सेवाएं दोबारा से रिस्टोर कर दी गई। दरअसल, मंगलवार को  हजारों ग्राहकों के ऑनलाइन ट्रांजैक्शन फेल हो गए जिससे बैंकों के बंद होने की अफवाहें फैलने लगी। ये घटना ऐसे समय में हुई जब पहले ही लोग पीएमसी बैंक के ऑपरेशन बंद होने से अकाउंट में जमा अपने पैसों को लेकर चिंतित है। हालांकि बाद में इसकी असली वजह सामने आ गई।

प्राइवेट बैंकों के शेयरों में मंगलवार को जबरदस्त गिरावट देखी गई। जिस वक्त ये शेयर गिर रहे थे उस वक्त प्राइवेट बैंकों के हजारों खाताधारकों के ऑनलाइन ट्रांजैक्शन फेल होने लगे। लोग ट्रांजैक्शन फेल होने पर बताने लगे कि वे किराया देने, स्कूल फी भरने और दूसरी जरूरतों के लिए पेमेंट नहीं कर पा रहे हैं। जिन प्रमुख निजी बैंकों के ग्राहकों के ट्रांजैक्शन फेल हो रहे थे उनमें यस बैंक, एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और आईडीएफसी फ़र्स्ट बैंक थे।

इससे सोशल मीडिया पर तरह-तरह की अफवाहें फैल गई। ग्राहकों को अपने अकाउंट में जमा पैसों की चिंता होने लगी। हालांकि बाद में ट्रांजैक्शन फेल होने की असली वजह भी सामने आ गई। दरअसल ऑनलाइन पेमेंट पर ऑफर्स और 1 तारीख को सैलरी क्रेडिट किए जाने से ट्राफिक काफी बढ़ गया था। इससे बैंक का सर्वर डाउन हो गया और ट्रांजैक्शन फेल होने लगे।

बैंकों ने बयान जारी कर कहा, 'ई-कॉमर्स साइटों पर ऑनलाइन पेमेंट पर दिए जा रहे ऑफर और 1 तारीख को वेतन भुगतान दिवस की वजह से सर्वर डाउन हो गया। इसकी वजह से ग्राहकों को इस तरह की समस्या का सामना करना पड़ा। इससे निपटने के लिए अतिरिक्त सर्वर डिप्लॉय किए जा रहे हैं।'

स्थिति को भांपते हुए रिजर्व बैंक ने भी तुरंत बयान जारी किया। आरबीआई ने बैंकों के बंद होने की अफवाहों पर बिल्कुल भी ध्यान न देने के लिए कहा। आरबीआई ने कहा, 'सहकारी बैंकों सहित कुछ बैंकों को लेकर तरह-तरह की अफवाहें फैलाई जा रही हैं। इससे बैंकों में पैसे जमा करने वाले लोग चिंतित हैं। केंद्रीय बैंक आम लोगों को आश्वस्त करना चाहता है कि भारतीय बैंक प्रणाली सुरक्षित और स्थिर है। ऐसी अफवाहों को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है।' 

खबरें और भी हैं...