comScore

कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अस्पतालों में 2,304 बिस्तरें तैयार कर रही है टाटा प्रोजेक्ट्स

कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अस्पतालों में 2,304 बिस्तरें तैयार कर रही है टाटा प्रोजेक्ट्स

हाईलाइट

  • देश में अस्पतालों में कुल 2,304 बिस्तरों की व्यवस्था कर रही है
  • टाटा प्रोजेक्ट्स जोगेश्वरी (मुंबई) में एचबीटी ट्रॉमा सेंटर में 72 बिस्तरों वाला आइसोलेशन केंद्र बना रही है
  • यह इस महीने के अंत तक तैयार हो जायेगा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। इंजीनियरिंग कंपनी टाटा प्रोजेक्ट्स ने शनिवार को कहा कि वह कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिये देश में अस्पतालों में कुल 2,304 बिस्तरों की व्यवस्था कर रही है। कंपनी के मुख्य रणनीति अधिकारी हिमांशु चतुर्वेदी ने कहा कि देश में बुनियादी संरचना क्षेत्र की सबसे तेजी से बढ़ती और सबसे ज्यादा सराहनीय कंपनियों में से एक होने के नाते हमें लगा कि अस्पतालों के नेटवर्क को बड़ा और बेहतर बनाने की दिशा में हम जटिल शहरी और औद्योगिक बुनियादी संरचना परियोजनाएं तैयार करने की अपनी विशेषज्ञता का लाभ उठा सकते हैं। 

कंपनी ने हाल ही में, मुंबई के केईएम अस्पताल में दो वार्ड को कोविड-19 के मरीजों के इलाज के योग्य बनाया, जिनमें 65 बिस्तर और विशेष चिकित्सा उपकरण हैं। इसके अलावा कंपनी केईएम अस्पताल के आर्थोपेडिक केंद्र के एक बड़े हिस्से को 115 बिस्तरों वाला आइसोलेशन सेंटर बना रही है। इसमें वेंटिलेटर, पल्स ऑक्सीमीटर, ऑक्सीजन फ्लो मीटर, एचएमई (श्वास प्रणाली) फिल्टर, फेशियल मास्क व आईवी स्टैंड, सक्शन मशीन, व्हीलचेयर और ड्रेसिंग ट्रॉली जैसे उपकरण भी लगाये गये हैं। 

टाटा प्रोजेक्ट्स जोगेश्वरी (मुंबई) में एचबीटी ट्रॉमा सेंटर में 72 बिस्तरों वाला आइसोलेशन केंद्र बना रही है। यह इस महीने के अंत तक तैयार हो जायेगा। कंपनी मुंबई के मारोल में सेवन हिल्स अस्पताल में 300 बिस्तरों के आइसोलेशन केंद्र की परियोजना प्रबंधन में सहायता कर रही है। कंपनी इनके अलावा उत्तर प्रदेश के गोंडा में 124 बिस्तरों वाला केंद्र बना रही है, जिसमें 10 आईसीयू बिस्तर, 10 एचडीयू बिस्तर और 104 आइसोलेशन बिस्तर शामिल होंगे। उत्तर प्रदेश के जीबी नगर में 168 बिस्तरों का ऐसा ही केंद्र बनाया जा रहा है, जिसमें 20 आईसीयू बिस्तर, 10 एचडीयू बिस्तर, 130 आइसोलेशन बिस्तर और आठ आपातकालीन बिस्तर शामिल होंगे।

कमेंट करें
eNdQo