दैनिक भास्कर हिंदी: पेट्रोल, डीजल की महंगाई से नहीं मिल रही राहत, 15 दिनों से बढ़ रहे दाम

June 21st, 2020

हाईलाइट

  • पेट्रोल, डीजल की महंगाई से नहीं मिल रही राहत, 15 दिनों से बढ़ रहे दाम

नई दिल्ली, 21 जून (आईएएनएस)। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में तेजी आने से पेट्रोल और डीजल की महंगाई से राहत मिलने की संभावना नहीं दिख रही है। तेल विपणन कंपनियां एक पखवाड़े से रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ा रही हैं। देश की राजधानी दिल्ली में 15 दिनों में पेट्रोल करीब आठ रुपये लीटर महंगा हो गया है जबकि डीजल की कीमत करीब नौ रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड का भाव बीते एक महीने में 18 फीसदी तेज हो गया है। बाजार के जानकार बताते हैं कि जुलाई में ओपेक और सहयोगी देशों द्वारा तेल के उत्पादन में ज्यादा कटौती करने की संभावनाओं से आगे कीमतों को सपोर्ट मिल सकता है।

तेल विपण कंपनियों ने रविवार को दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव क्रमश: 35 पैसे, 33 पैसे, 34 पैसे और 31 पैसे प्रति लीटर बढ़ा दिया। डीजल के दाम में चारों महानगरों में क्रमश: 60 पैसे, 54 पैसे, 58 पैसे और 51 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल की कीमत बढ़कर क्रमश: 79.23 रुपये, 80.95 रुपये, 86.04 रुपये और 82.58 रुपये प्रति लीटर हो गई है। डीजल का दाम भी चारों महानगरों में बढ़कर क्रमश: 78.27 रुपये, 73.61 रुपये, 76.69 रुपये और 75.80 रुपये प्रति लीटर हो गया है।

लगातार 15 दिनों में दिल्ली में पेट्रोल 7.97 रुपए प्रति लीटर महंगा हो गया है और डीजल की कीमत 8.90 रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज यानी आईसीई पर बीते शुक्रवार को अगस्त डिलीवरी ब्रेंट क्रूड का वायदा अनुबंध पिछले सत्र से 1.64 फीसदी की तेजी के साथ 42.19 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ जबकि इससे पहले ब्रेंट का भाव 42.91 डॉलर प्रति बैरल तक उछला। एक महीने पहले 20 मई को ब्रेंट क्रूड का भाव 35.75 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ था।

वहीं, न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज यानी नायमैक्स पर अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट यानी डब्ल्यूटीआई का जुलाई डिलीवरी अनुबंध पिछले सत्र से 2.34 फीसदी की तेजी के साथ 39.75 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ जबकि डब्ल्यूटीआई का भाव इससे पहले 40.51 डॉलर प्रति बैरल तक उछला।