भांडाफोड़ : आयकर छापे में 500 करोड़ के काले धन का खुलासा, चोरी के लिए पशुओं का सहारा 

December 2nd, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। आयकर विभाग ने हाल ही में पुणे के डेयरी उद्योग से जुड़े समूह और मुंबई के एसआरए परियोजना से जुड़े बिल्डर के ठिकानों पर छापेमारी कर 500 करोड़ रुपए से ज्यादा के कालीकमाई का खुलासा किया है। आयकर विभाग के मुताबिक पुणे के इस समूह से जुड़े छह शहरों के 30 ठिकानों पर 25 नवंबर को छापेमारी की गई थी। इस दौरान कर चोरी का खुलासा करने वाले कई दस्तावेज मिले। छापेमारी के दौरान 400 करोड़ रुपए के कालेधन का खुलासा हुआ है। इसके अलावा आयकर विभाग ने ढाई करोड़ की नकदी और जेवर भी बरामद किए हैं। इसके अलावा अभी कुछ बैंक लॉकरों की छानबीन की जानी है। जांच में आयकर विभाग ने पाया कि जानबूझकर लेन देन का सही हिसाब नहीं रखा गया और भारी मात्रा में लेन देन नकद के रुप में किया गया। इसके अलावा पशुओं की मौत और बिक्री में घाटा दिखाकर भी कर चोरी की गई। 

बिल्डर के यहां छापे में मिली 100 करोड़ के कालेधन की जानकारी 

इसी तरह आयकर विभाग ने झोपड़पट्टी पुनर्वसन परियोजना से जुड़े मुंबई के एक बिल्डर के ठिकानों पर भी 25 नवंबर को ही छापेमारी की थी। मुंबई और नई मुंबई के 30 ठिकानों पर छापे के दौरान आयकर विभाग ने 100 करोड़ रुपए के कालेधन की जानकारी हासिल की है। दस्तावेजों और डिजिटल सबूतों के आधार पर जानकारी मिली कि समूह ने फ्लैट बेचने के दौरान 100 करोड़ रुपए का नकद लेन देन किया है। यह रकम वित्तीय लेखे जोखे में नहीं दिखाई गई थी। जांच में आयकर विभाग ने पाया कि बिल्डर ने लोगों को झोपड़े खाली करने के लिए नकद रकम तो दी ही है साथ ही झोपड़े जबरन खाली करवाने के लिए भी लोगों को पैसे दिए गए हैं। एसआरए परियोजना में भी गड़बड़ी के कई सबूत आयकर विभाग को मिले हैं। इसके अलावा खुलासा हुआ है कि समूह ने 300 करोड़ रुपए का भुगतान किया है लेकिन इस दौरान टैक्स कटौती कर उसका भुगतान नहीं किया। छापेमारी के दौरान छह करोड़ रुपए नकद भी बरामद किए गए हैं।