comScore

61 फीसदी हुई रबी की बोनी, वितरण से ज्यादा स्टॉक में खाद

61 फीसदी हुई रबी की बोनी, वितरण से ज्यादा स्टॉक में खाद

डिजिटल डेस्कउमरिया। जिले में एक फसलीय व सिंचित रकबे में रबी फसलों की बोनी पूर्णता की ओर है। निर्धारित 7061 हजार हेक्टेयर में 4374 यानि 61 फीसदी रकबे में बोनी हो चुकी है। बचा हुआ शेष रकबा द्विफसलीय है। यहां खरीफ की कटाई के बाद खेत तैयार करने में विलंब से रबी की बोनी में विलंब बताया जा रहा है। अभी तक की स्थिति में सोसायटी व अन्य माध्यमों से 51 फीसदी बीज की बिक्री हुई। वहीं सोसायटियों से बिकने वाली खाद में वितरण से ज्यादा माल स्टॉक 2687.70 मी. टन पड़ा हुआ है।
कृषि विभाग अनुसार जिले में 7061 हजार हेक्टेयर में रबी फसलों के बोनी का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। यह गत वर्ष 6435 हजार हेक्टेयर मेेें छह हजार हे. अधिक है। अभी तक दो माह से गेहूं समेत अन्य फसलों को 4374 हजार हेक्टेयर में बीज डाले जा चुके हैं। इनमे गेहूं के निर्धारित 5150 हजार हेक्टेयर में 2830, चना 750 हजार हे. में685, मटर 250 हजार हे. में 185, मसूर400 में 345, राई 350 में 285 हजार हेक्टर यानि कुल 4374 एरिया में खेती हुई। वहीं 39 फीसदी क्षेत्र के किसान अभी भी बीज व पानी के इंतजार में हैं।
बीजों का उठाव धीमा
अभी तक की स्थिति में रबी
की खेती गत वर्ष की तुलना में पिछड़ती दिख रही है। करीब 30 से अधिक सोसायटी के माध्यम से समितियां किसानों को बीज वितरित कर रही हैं। अभी तक की स्थिति में निर्धारित लक्ष्य 9393 क्वि. में 51 फीसदी का वितरण हुआ है। 2838 क्विंटल बीज बांटे जाने शेष हैं। इसमे गेहूं असिंचित 480 भण्डारण में 320, सिंचित में 6209 में से 3580 क्विंटल बीज बांटा गया। इसी तरह चना में 631 क्विंटल, मटर 61, मसूर 123 फीसदी बिक्री हुआ।
सोसायटियों के स्टॉक में पड़ी है खाद
उर्वरक वितरण के लिए जिले में सहकारिता विभाग व निजी दुकानों के माध्यम से व्यवस्था है। दो माह बोनी के बाद दानों से हरियाली मिट्टी के बाहर दिखने लगी है। किसानों द्वारा बोवनी से अभी तक 2279 मी. टन खरीदा गया है। 2687 मी.टन खाद अभी भी बांटी जानी शेष है। ज्ञात हो कि किसानों को सहकारिता विभाग यह वितरण सुनिश्चित करता है। सोसायटी डिमांड अनुसार बैंकों को पत्र देती हैं। रकम जमा होने पर उन्हें खाद का आवंटन मिलता है। अभी तक 11300 मी. टन लक्ष्य में 4967 एमटी का आवंटन जिले को मिला। इसके अनुपात में आधा से कम 2279.30 वितरित हुआ।  
इनका कहना है -
जिले में 61 फीसदी रबी की बोनी हो चुकी है। शेष बचे हुए रकबे में किसान कम दिनों वाले बीजों का उपयोग करें। ताकि उनका उत्पादन प्रभावित न हो। खाद, बीज वितरण के लिए सहकारिता विभाग से समन्वयक कर उपलब्धता दी जा रही है। अभी तक खाद, बीज में कमी की शिकायतें नहीं मिली हैं। 
राजेश प्रजापति, उपसंचालक कृषि
 

कमेंट करें
Jy85z