राज्यमंत्री ने खाद्य सुरक्षा अधिकारी को धमकाया: अगर अमरपाटन विधानसभा में किसी व्यापारी का केस बना तो उल्टा लटका देंगे

September 29th, 2022

डिजिटल डेस्क,सतना। प्रदेश के राज्यमंत्री और अमरपाटन विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के विधायक रामखेलावन पटेल का एक धमकी भरा ऑडियो सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। इस ऑडियो में राज्यमंत्री अमरपाटन और रामनगर के प्रभारी खाद्य सुरक्षा अधिकारी (एफएसओ) नीरज विश्वकर्मा को तल्ख अंदाज में धमका रहे हैं। ऑडियो में रामखेलावन दो टूक चेतावनी देते सुनाई पड़ते है अमरपाटन विधानसभा के किसी भी व्यापारी का केस नहीं बनना चाहिए, नहीं हो उल्टा लटका देंगे। इस वायरल ऑडियो के एक और पार्ट में एफएसओ से राज्यमंत्री कहते हैं। मैं जिस दिन भोपाल जाऊंगा लिख दूंगा चले जाओगे झाबुआ और मंदसौर तरफ फिर, कर लेना जांच...माननीय ने यह भी कहा कि पूरे जिले में रहो,लेकिन अमरपाटन और रामनगर छोड़ दो समझ में नहीं आ रहा है क्या इसी बीच इस मामले में राज्यमंत्री का पक्ष जानने के लिए उनसे मोबाइल पर संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन बात नहीं हो पाई। 

झगड़े की जड़ ढाबा: 

अपहरण की कोशिश के आरोप- 

जानकारों के मुताबिक अमरपाटन और रामनगर के प्रभारी खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीरज विश्वकर्मा पर राज्यमंत्री रामखेलावन का गुस्सा नाहक नहीं है। असल में झगड़े की जड़ अमरपाटन बायपास पर स्थित एक ढाबा है। एफएसओ श्री विश्वकर्मा 27 सिंतबर की दोपहर जांच के लिए ढाबे पर गए थे। एफएसओ का आरोप है कि ढाबा के संचालक पंकज गौतम और साथियों ने उनके साथ मारपीट की और अगवा कर एक वाहन में किसी अज्ञात स्थल के लिए निकल पड़े। उनका मोबाइल भी छीन लिया गया। एक जगह पर गाड़ी फंसने के पर वह अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भाग निकले, ग्रामीणों की मदद से डॉयल-100 बुलाई और अमरपाटन थाने पहुंच कर जान बचाई। अमरपाटन के थाना प्रभारी संदीप भारतीय ने बताया कि एफएसओ के अपहरण के आरोप जांच में हैं। उन्होंने बताया कि ढाबा संचालक की ओर से भी एफएसओ के खिलाफ 25 हजार की रिश्वत मांगने के आरोप लगाए गए हैं। 

इनका कहना है:-

खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने ढाबा संचालक और उसके साथियों के खिलाफ जान से मारने के इरादे से अगवा करने की लिखित शिकायत की है। एफएसओ के खिलाफ भी ढाबा संचालक ने रिश्वत मांगने के लिखित आरोप लगाए हैं।  दोनों शिकायतें जांच में हैं। 

संदीप भारतीय, थाना प्रभारी अमरपाटन 

शुद्ध के विरुद्ध युद्ध के अंतर्गत एक तरफ जहां ज्यादा से ज्यादा जांच और सेंपलिंग के वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश हैं, वहीं दूसरी ओर केस नहीं बनाने का दबाव है। हम मंत्रीजी से कई बार आग्रह कर चुके हैं कि जब अमरपाटन-रामनगर में केस नहीं बनाने हैं तो किसी अन्य ब्लाक में ट्रांसफर करा दें। 

नीरज विश्वकर्मा, एफएसओ