दैनिक भास्कर हिंदी: पूर्व मंत्री के भतीजे की शादी से लगा जाम, एंबुलेंस के फंसने से गई मासूम की जान

December 6th, 2017

डिजिटल डेस्क दमोह।  एक तरफ जान बचाने के लिए कई जगह ग्रीन कॉरिडोर बनाया जाता है, ताकि मरीज को ले जा रही एंबुलेंस आसानी से निकल सके। इसके उलट दमोह जिले में निकल रही एक बारात के कारण एक 2 साल की मासूम की जान चली गई। बताया जा रहा है कि एक शादी की बारात के जाम में एक एंबुलेंस फंस गई। रास्ता नहीं मिलने से उसे अस्पताल ले जाने में देर हो गई। जब वो अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बता दें जिस बारात के जाम में एंबुलेंस फंसी वो कांग्रेस प्रवक्ता मुकेश नायक के भतीजे की थी।    

पथरिया में नहीं मिला इलाज
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के पथरिया थानांतर्गत ग्राम नंदरई निवासी भूमि पुत्री वकील विश्वकर्मा 2 साल सोमवार की शाम को अपने घर के आंगन में खेल रही थी। इसी दौरान उसे बिच्छु ने पैर में डंक मार दिया। इस बात की जानकारी लगती है भूमि के परिजन उसे तत्काल ही इलाज हेतु प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पथरिया लेकर आए लेकिन पथरिया में किसी भी डॉक्टर के उपलब्ध न होने के कारण वहां से तत्काल ही इस मासूम बालिका को एम्बुलेंस वाहन में दमोह के जिला अस्पताल के लिए रवाना लिया।

बारातियों ने ठुकराया आग्रह
जब यह एम्बुलेंस दमोह शहर के घंटाघर के पास पहुंची तो उसी दौरान एक शादी समारोह की बारात जा रही थी और इस बरात में शामिल बराती जश्न में इतने मशगूल थे कि उन्हें ना तो एम्बुलेंस और ना ही एम्बुलेंस का सायरन सुनाई दे रहा था। इस दौरान एम्बुलेंस चालक धनीराम यादव के अनुसार वह पथरिया से दमोह तो बहुत जल्दी आ गया था लेकिन पलंदी चौराहे पर जाम में फंस जाने से उसे लगभग आधा घंटा लग गया और जब बारात का जश्न मना रहे बारातियों ने इसके बाद भी रास्ता नहीं दिया तो उसके द्वारा डिवाइडर पर एम्बुलेंस चढ़ाकर बच्ची को जिला अस्पताल ले गए वहां पर ड्यूटी पर तैनात पर डॉक्टर द्वारा परीक्षण किया गया तो मासूम भूमि की मौत हो चुकी थी। डॉक्टर ने परिजनों से कहा कि यदि कुछ ही मिनट पहले अस्पताल आ जाते तो शायद बच्ची की जान बच सकती थी।

पिता ने लगाए आरोप
मृतक भूमि के पिता वकील विश्वकर्मा ने बताया कि उसकी बेटी की मौत सिर्फ बारात द्वारा रास्ता न देने के कारण हुई है, यदि बाराती मेरे तथा एम्बुलेंस चालक धनीराम उर्फ भूरे के निवेदन को मानकर एम्बुलेंस को अस्पताल जाने के लिए रास्ता दे देते तो मेरी पुत्री भूमि को समय पर इलाज मिल जाता और उसकी जान बच जाती लेकिन बारातियों ने शादी के जश्न में चूर होकर कोई भी बात नहीं मानी जिससे समय पर इलाज न मिलने पर मेरी बेटी की मौत हुई है। बताया गया है कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय प्रवक्ता मुकेश नायक के भतीजे का आशीर्वाद गार्डन में विवाह था और इसी गार्डन के लिए बारात जा रही थी जिस कारण से जाम लगा था।

नियम विरूद्ध है मैरिज गार्डन    
बताया जाता है कि नगर में जितने भी मैरिज गार्डन चल रहे है वह पूर्ण रूपेण नियमों को दरकिनार कर संचालित हो रहे है। किसी भी मैरिज गार्डन मेें न तो पार्किंग की व्यवस्था और ना ही इनके द्वारा शादी होने वाले दिन वाहनों के रखे जाने की भी कोई व्यवस्था सुनिश्चित नहीं कराई जाती है जिस कारण से मैरिज गार्डन के सामने हमेशा ही जाम की स्थिति बनी रहती है और आए दिन कोई न कोई हादसा घटित होता रहता है।

इनका कहना है
मैरिज गार्डन के संचालन हेतु पूर्व में भी दिशा निर्देश दिए गए थे लेकिन इनके द्वारा आदेशों की अव्हेलना की जा रही है। शीघ्र ही गार्डन संचालको को बुलाकर सुधार न होने पर कार्रवाई की जाएगी।
कपिल खरे सीएमओ, नपा दमोह
घटना के संबंध में शिकायत प्राप्त होगी तो निमयानुसार जांच कर दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी।
प्रदीप सोनी टीआई, कोतवाली दमोह