• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Buffalo clashed with three tigers to save the owner, now discussions are happening across the village

वफादारी की मिसाल : मालिक को बचाने तीन बाघों से भिड़ गई भैंस, इस बात के अब हो रहे हैं गांव-गांव चर्चे

January 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। कहते हैं कुत्ता सबसे वफादार जानवर होता है, लेकिन कोंडेखल गांव की इस घटना ने वफादीरी की सारी मिसालें बौनी कर दी। जहां एक भैंस अपने मालिक को बचाने के लिए एक नहीं बल्कि तीन बाघों से भिड़ गई। डरा सहमा किसान पेड़ पर चढ़ गया, उसका शिकार करने आए बाघों को भैंस ने काफी दूर तक दौड़ाया। 

Protested against not getting survey of bad crop for almost 2 hours and not  getting insurance of last year | खराब फसल का सर्वे और बीमा राशि नहीं मिलने  से गुस्साए किसान

बुधवार को सावली तहसील के इस गांव में किसान की जान बाल-बाल बच गई। किसान खेत में काम कर रहा था, तभी जंगल से अचानक एक-दो नहीं बल्कि तीन बाघ आ गए। बाघों को देख  किसान पेड़ पर चढ़ गया और मवेशी इधर-उधर भागने लगे। इनमें एक भैंस  तीनों बाघों से भिड़ने सामने आ गई और उसने एक बाघ को करीब एक किलो मीटर तक दौड़ाकर खदेड़ दिया, अन्य दो बाघों से आमना-सामना हो रहा था कि ग्रामीणों ने भी एकजुट होकर बाघों को भगा दिया। इलाके में अचानक तीन बाघ दिखाई देने से दहशत फैल गई।

Tiger Again Knocked In The Area, Hunted Buffalo - टाइगर ने फिर दी क्षेत्र  में दस्तक, भैंस का किया शिकार | Patrika News

बाघों की संख्या बढ़ने से भले ही वनविभाग का सीना चौड़ा हो रहा हो, लेकिन जंगल से सटी बस्तियों में उनका खतरा बढ़ गया है। नतीजतन आए दिन मानव-वन्यजीव संघर्ष बढ़ता जा रहा है। ऐसी ही घटना के दौरान दोपहर 3 बजे तनाव की स्थिति बन गई थी। जहां एक किसान की जान पर बन आई थी। 

बहराइच: भैंस के झुंड पर बाघ ने किया हमला, दो को बनाया निवाला

जानकारी के अनुसार किसान लोकेश अंबादास भोयर अपने मवेशियों को लेकर तालाब किनारे से होते हुए खेत गया था। मवेशी चर रहे थे, इसी बीच तीन बाघ आ गए। घबराया हुआ किसान पास के ही पेड़ पर चढ़ गया। बैल इधर-उधर भाग खड़े हुए। तभी एक भैंस ने आक्रामकता से बाघ पर हमला कर उसे खदेड़ दिया। दो बाघ पेड़ के नीचे ही बैठेे थे। 

 

Hisar big update 11 more Buffaloes died in Nangthala Village 40 total death  now

 

एक बाघ को दौड़ाने के बाद भैंस वहां लौटी और बाघों को देखने लगी। बाघ भैंस को देख रहे थे। तब तक पेड़ पर चढ़े खेत मालिक ने गांववालों  को फोन लगाकर इसकी सूचना दे दी। इस दाैरान गांव के 70 से 80 लोग खेत की ओर दौड़े, दोनों बाघ पेड़ के नीचे ही बैठे थे। ग्रामीणों की आवाज सुनकर बाघ जंगल की ओर भाग गए, जिसके बाद किसान पेड़ के नीचे उतरा। वनसमिति के अध्यक्ष ने इस संबंध में जानकारी दी है। बहरहाल गांववालों में दहशत का महौल है, किसान खुश है और गांव में भैंस की वफादारी के चर्चे हो रहे हैं।