comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कोविड-19 महामारी ने हमें अपने स्वास्थ्य के लिए अच्छे वेंटिलेशन और सूर्य के प्रकाश का महत्व बताया है - उप राष्ट्रपति

January 21st, 2021 15:35 IST
कोविड-19 महामारी ने हमें अपने स्वास्थ्य के लिए अच्छे वेंटिलेशन और सूर्य के प्रकाश का महत्व बताया है - उप राष्ट्रपति

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उप राष्ट्रपति सचिवालय कोविड-19 महामारी ने हमें अपने स्वास्थ्य के लिए अच्छे वेंटिलेशन और सूर्य के प्रकाश का महत्व बताया है- उपराष्ट्रपति सिटी प्लानर्स को न सिर्फ शहरों को जीवनदायी बनाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, बल्कि लोगों की खुशहाल को बढ़ाने के लिए भी काम करना चाहिए- उपराष्ट्रपति उपराष्ट्रपति ने शहरों को सुलभ, समावेशी और टिकाऊ बनाने का आह्वान किया कई शहरी गरीब शहरी दायरे से बाहर हो जाते हैं शहरी नियोजन स्थानीय सौंदर्यशास्त्र और स्थानीय परंपराओं के साथ होना चाहिए।

उपराष्ट्रपति प्रत्येक शहरों की अनूठी विशेषताओं और विरासत को संरक्षित किया जाना चाहिए- उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने कहा कि नागरिक निकायों को स्व-फंडिंग का मॉडल अपनाना चाहिए, जो सार्वजनिक उपयोगिताओं के संचालन को व्यावहारिक बनाते हैं शहरों में पर्याप्त आकार के पुस्तकालय और पार्क बनाने का आह्वान लोगों से प्रकृति के साथ सामंजस्य बिठाने का आह्वान ‘ए टेक्स्टबुक ऑफ अर्बन एंड ज्योग्राफी’ का लोकार्पण, उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज कहा कि कोविड-19 महामारी ने हमें अपने स्वास्थ्य के लिए अच्छे वेंटिलेशन (हवादार और सूर्य की रोशनी के लिए उपयुक्त कमरे) और सूर्य के प्रकाश के महत्व बताया है। उन्होंने बंद स्थानों में रहने की बढ़ती प्रवृत्ति पर अपनी असहमति जाहिर की और जोर दिया कि घरों, कार्यालयों, रेस्तरां और सभागार में उचित वायु परिसंचरण सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उपराष्ट्रपति ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स के महानिदेशक और सीईओ डॉ. समीर शर्मा की लिखी किताब ‘ए टेक्स्टबुक ऑफ अर्बन एंड ज्योग्राफी’ का वर्चुअल लोकार्पण करते हुए ये टिप्पणी की। श्री नायडू ने कहा कि एक आधुनिक जीवन शैली की अपनी आकांक्षा के चलते शहरवासियों का प्रकृति से संबंध टूट गया है और कई बार हम पाते हैं कि सूरज की किरणें हमारे घरों में नहीं आती हैं। उन्होंने शहर के योजनाकारों और वास्तुकारों को सलाह दी कि वे प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करने वाली डिज़ाइन संरचनाओं और इमारतों को गढ़ने को तरजीह दें। वह चाहते थे कि शहरों में सांस लेने की जगह जैसे पार्क, बगीचे और खेल के मैदान हों। उन्होंने कहा कि बाढ़ के दौरान शहरी इलाकों में अव्यवस्था फैल जाती है।

उपराष्ट्रपति ने अच्छे शहरी नियोजन के लिए सुगमता, समावेशिता और स्थिरता के सिद्धांतों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि नगर नियोजन के तदर्थ दृष्टिकोण को दीर्घकालिक और दूरंदेशी नजरिये से प्रतिस्थापित किया जाना चाहिए ताकि रहने लायक शहरों का निर्माण किया जा सके। यह कहते हुए कि ‘एक शहर कुछ के लिए नहीं हो सकता है’, उन्होंने अपनी निराशा व्यक्त की कि कई शहरी गरीबों को अक्सर शहरी योजना के दायरे से बाहर रखा जाता है। उपराष्ट्रपति ने सबको साथ रखने यानी समावेश को शहर की योजना का एक अभिन्न अंग बनाने का आह्वान किया। श्री नायडू ने शहर नियोजन के प्रत्येक घटकों में स्थिरता की आवश्यकता पर बल दिया-चाहे वह नागरिक सुविधाओं को लेकर धन का इंतजाम हो, ग्रीन बिल्डिंग को प्रोत्साहित करना हो, कचरे का पुनर्चक्रण हो, वर्षा जल का संचयन या सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देना हो। शहरों में बाढ़ की समस्या पर चिंता व्यक्त करते हुए उपराष्ट्रपति ने प्रकृति के साथ अच्छे रिश्तों को रेखांकित किया। उन्होंने कहा, ‘हर साल प्राकृतिक बाढ़ से बचने के लिए शहरों को उपयुक्त ढांचा तैयार किया जाना चाहिए।’ वाहनों से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए श्री नायडू सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देने के साथ-साथ कार-पूलिंग, सीएनजी या इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग जैसी अन्य हरित पहल को आगे बढ़ाना चाहते हैं। उपराष्ट्रपति ने सड़क के अगल-बगल के स्थान के सद-उपयोग पर जोर दिया। उन्होंने नागरिकों से सड़कों के स्थान का उपयोग करने के तौर-तरीके में बदलाव करने को कहा।

उन्होंने कहा, "साइकिल चलाने को बढ़ावा देने के लिए आंदोलन होना चाहिए, इससे न केवल स्वस्थ ठीक रहता है बल्कि यह प्रदूषण को भी कम करता है।" उपराष्ट्रपति ने शहर में बेघर और गरीबों के हितों को समायोजित करने और उनकी रक्षा करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले प्रवासियों को खराब परिस्थितियों में न रहना पड़े। परिवहन की ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि शहर के बाहरी इलाकों में रहने वाले घरेलू सहायकों को आवागमन के लिए संघर्ष न करना पड़े। यह देखते हुए कि ‘ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स’ में सुधार हो रहा है।

कमेंट करें
t2UeE
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।