दैनिक भास्कर हिंदी: शुगर मिलों की मनमानी जारी, अर्धनग्न हो किसानों ने जलाई गन्ने की फसल

November 16th, 2017

डिजिटल डेस्क नरसिंहपुर । गन्ना के दामों को लेकर घमासान मचा है और आला अधिकारी दौरे में व्यस्त है। गन्ना के दाम तय करने बैठक में निर्णय तो हुए लेकिन उनका पालन कराने की स्थिति में प्रशासन नहीं है। बुरहानपुर पेटर्न का पालन करने सुगर मिल मालिक तैयार नहीं है और 270 रूपए प्रति क्विंटल के दाम पर खरीदी कर मनमानी कर रहे हैं। वहीं स्थिति तय होने के बाद निर्णय का पालन कराने में प्रशासनिक अधिकारी किंकत्र्तव्यविमूढ़ दिख रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि बुधवार को कांग्रेस नेता लाखन सिंह पटैल के आह्वान पर किसान जनपद मैदान में बड़ी संख्या में एकत्रित हुए। यहां जिला प्रशासन के साथ प्रदेश की भाजपा सरकार और केन्द्र सरकार पर तीखे आरोप लगाते हुए जिले के विधायकों और सांसद पर किसान विरोधी रवैया अपनाने का आरोप लगाया।
अर्धनग्न होकर किया प्रदर्शन जलाई होली
किसानो ने अर्धनग्न प्रदर्शन करते हुये गन्ना को हाथ में लेकर प्रदर्शन किया। सुभाष पार्क चौराहे पर गन्ना की होली जलाई। जनपद मैदान से लेकर नरसिंह भवन तक विभिन्न मांगो को हल करने के लिये नारेबाजी की। कलेक्ट्रेट पहुंचकर किसानो ने एडीएम को ज्ञापन सौंपा। इस ज्ञापन में किसानो से जुड़ी 16 समस्याओं को हल करने की मांग की गई है। इस दौरान जगह-जगह पुलिस ने वैरिकेट्स बनाये किन्तु किसानो के आक्रोश को देखते हुये अंतिम समय में वैरिकेट्स अलग करकर किसानो को नरसिंह भवन परिसर तक जाने दिया गया।
झूठे वादों व जुमलों से हो रही ठगी
पूर्व मंत्री एनपी प्रजापति ने कहा कि झूठे वादे और जुमलों से यह सरकार लोगों को ठगती आई है। किन्तु अब वास्तविकता सामने आ गई है। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष देवेन्द्र पटेल ने कहा कि जिले में किसान अनेक समस्याओं से जूझ रहा है और शासन प्रशासन उदासीन हैं। जननेत्री श्रीमति सुनीता पटैल ने भ्रष्टाचार के कई उदाहरण गिनाते हुये कहा कि किसानो का शोषण बर्दास्त नही किया जायेगा।
जबाब दें सांसद विधायक
इस अवसर पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष देवेन्द्र पटैल ने कहा कि किसानों के लिए बड़ी बातें करने वाले क्षेत्र के विधायक, सांसद इस मुसीबत के समय में नदारत हैं। किसानों पर दामों के दुख का पहाड़ सामने है, असमंजस है कि फसल काटें तो बेचे कहां?
सरकार कर रही किसानों का शोषण
जिला भारत कृषक समाज के अध्यक्ष पंडित मैथिलीशरण तिवारी ने कहा कि केन्द्र और राज्य की सरकार किसानो का शोषण करा रही है। समर्थन मूल्य पर खरीदी, बीमा फसल योजना और अब भावांतर योजना किसानो के लिये परेशानी का सबब बनी है। श्री तिवारी ने कहा कि शुगर मिलें 300 रूपये प्रति क्ंिवटल गन्ना खरीदेंगी तो बकाया 50 रूपये की राशि राज्य सरकार किसानो को प्रदान करे।