comScore

खतौली जोन में आज से होगी पर्यटकों की एंट्री: सुरक्षा के लिए आगे - पीछे रहेंगी वन अमले की गाडिय़ां

खतौली जोन में आज से होगी पर्यटकों की एंट्री: सुरक्षा के लिए आगे - पीछे रहेंगी वन अमले की गाडिय़ां

डिजिटल डेस्क उमरिया। खितौली तथा मगधी पर्यटन जोन में अपनी उपस्थिति से हलचल मचाने वाले गजराज फिर से वापस अपने पुराने ठिकाने में पहुंच चुके हैं। गुरुवार को पार्क प्रबंधन के आला अफसरों ने खितौली पर्यटन रूट का निरीक्षण किया है। मार्ग में कहीं भी इनकी उपस्थिति दर्ज नहीं हुई। दूर दराज अपने पूर्व ठिकाने में जरूर इनकी विष्ठा (मल), पगमार्ग मिले हैं। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है हाथियों का झुंड फिर से पनपथा रेंज में थम गया है। इसलिए हफ्तेभर बाद खितौली गेट को पर्यटकों के लिए खोला जा रहा है।
आगे-आगे सुरक्षाकर्मियों के वाहन
पार्क प्रबंधन अनुसार खितौली में सुरक्षा पुख्ता होने के बाद पर्यटन को चालू करने का ट्रायल होगा। सुबह की पहली सफारी में वाहनों को गेट से इंट्री मिलेगी। इस दौरान पर्यटकों की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा गया है। वाहनों के आगे व पीछे प्रशिक्षित सुरक्षा कर्मियों के वाहन रहेंगे। खतरे को भांपने पर पहले ही आगाह कर दिया जाएगा। सब कुछ ठीक रहा तो शाम को भी गाडिय़ां भीतर जाएंगे।
पर्यटकों को हो रही थी मायूसी
ज्ञात हो कि हाथियों के आए दिन रूट में रहने से पर्यटन जोन को बंद करना पड़ता था। हफ्तेभर से खितौली के गेट में सुरक्षा कारणों से पर्यटन की अनुमति नहीं थी। यही नहीं पिछले तीन-चार दिन पहले तो मगधी में भी एक झुंड की जबरदस्त उपस्थिति दर्ज हुई। सड़क में कई बार हाथी रहने से शाम को वाहनों की आवाजाही तक में ब्रेक लगाना पड़ गया था। दो दिन मगधी गेट को भी बंद करना पड़ा। ऐसी स्थिति में पर्यटकों को दूसरे जोन में ले जाना पड़ता है। टिकट भी रद्द हो जाती थीं। लोग अपनी मनपसंद प्रकृति सौंदर्य के दर्शन नहीं कर पा रहे थे। अब हालात सामान्य होते ही एक बार फिर तीन गेट पहले की तरफ पर्यटकों की उपस्थिति से गुलजार होंगे।
इनका कहना है -
हमने खितौली पर्यटन रूट का बारीकी से निरीक्षण किया है। रास्ते में कभी भी हाथियों की उपस्थिति नहीं मिली। इलाके में सुरक्षा पुख्ता करते हुए सुबह की सफारी में ट्रायल करेंगे। इसके बाद अगला निर्णय लिया जाएगा।
विंसेंट रहीम, डायरेक्टर बांधवगढ़।
 

कमेंट करें
bFUwJ