comScore

बाघ के हमले से घायल हो रहे इंसान, गांव में सनसनी

बाघ के हमले से घायल हो रहे इंसान, गांव में सनसनी


डिजिटल डेस्क उमरिया। ताला रेंज से सटे पतौर रेंज में एक बार फिर बाघ की मौजूदगी ने लोगों को खौफजदा कर दिया है। पटपरा में बाघ ने हमला कर एक ग्रामीण को घायल कर दिया। वन विभाग की मदद से उसे मानपुर भर्ती कराया गया। लोगों की सुरक्षा को देखते हुए रेंज टीम ने घटना स्थल क्षेत्र में निगरानी बढ़ा दी है। घटना को अंजाम देने वाले बाघ के पगमार्ग तलाशे जा रहे हैं। बताया जा रहा है वन क्षेत्र में बाघिन टी-55 सक्रिय देखी गई है। उनके साथ तीन शावक भी हैं।
साथियों ने बचाई जान- घटना के संबंध में बताया गया है सुबह करीब सात बजे यह घटना पतौर रेंज के बीट पतौर ए में हुई। यहां आरएफ 400 के पास सेसहाईहार नामक जंगल में बाघ पहले से मौजूद था। जैसे ही पप्पू पाल  पिता (40) उसके समीप पहुंचा, उसने पंजे मारते हुए उस पर चार्ज किया। वन अफसरों के मुताबिक चूंकि बाघ का उद्देश्य उसे मारना नहीं था इसलिए उसने पंजे से हमला किया। अन्यथा टाईगर एक बार जबड़े में दबोचने के बाद शिकार को दोबारा नहीं छोड़ता। यही कारण रहा कि तब तक वहां अन्य गांव के लोगों को मौका मिल गया और उन्होंने इसे जंगल से घर पहुंचा दिया।  
तीन माह में पांचवी घटना- इस साल वनोपज महुआ व तेंदूपत्ता प्रारंभ होने से अभी तक इंसानों पर हमले की यह पांचवी घटना है। इनमे दो की जान चुकी है। जबकि तीन घायल हुए हैं। 29 मई को पतौर परिक्षेत्र में ही कुसमहा निवासी राम सोहावन बैगा पर हमला हुआ था। वह महुआ बीनने गया था। इसके अलावा नौ अप्रैल को खितौली रेंज की मेढऱा बीट में महुआ बीनने गई पप्पी बाई गोंड निवासी मेढ़की गांव को बाघ ने हमला कर मार दिया था। दूसरी मौत महामन कैम्प में कार्यरत श्रमिक चिंता बैगा (38) की हुई थी। एक अन्य घटना खितौली परिक्षेत्र में दर्ज हुई। युवक को बरही में भर्ती कराया गया था।
इनका कहना है
बांधवगढ़ में इंसान व मानव के बीच द्वंद को कम करने ग्रासलैंड बढ़ा रहे हैं। संरक्षित क्षेत्र के अलावा भी बाघों के लिए नए कारीडोर पर काम चल रहा है। आगे आने वाले समय में इससे काफी अच्छे परिणाम आएंगे।
विंसेंट रहीम, क्षेत्र संचालक बीटीआर

कमेंट करें
rJ14t