दैनिक भास्कर हिंदी: पूरे प्रदेश में लागू होगा कटनी का मॉडल, हर ब्लॉक में एक आंगनबाड़ी केन्द्र बनेगा प्ले स्कूल

July 22nd, 2019

डिजिटल डेस्क,कटनी। तमाम प्रयासों के बाद भी आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों की उपस्थिति नहीं बढ़ने से महिला बाल विभाग के अधिकारी  राजधानी से लेकर जिला स्तर तक मंथन कर रहे हैं। यही कारण है कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में नित नए प्रयोग किए जा रहे हैं। कटनी जिले के चुनिंदा आंगनबाड़ी केन्द्रों को मॉडल के रूप में विकसित करने बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने में मिली सफलता का प्रयोग पूरे प्रदेश में मॉडल बन गया है।  महिल बाल विकास विभाग ने इस नए कांसेप्ट पर काम शुरू कर दिया है। अन्य आंगनबाड़ी केन्द्रों भी बच्चों की उपस्थिति बढ़ इसके लिए प्ले स्कूल की तर्ज पर पढ़ाई होगी ओर सर्टिफिकेट भी जारी होंगे। सभी प्ले स्कूल में स्वतंत्रता दिवस पर ध्वजारोहण की तैयारी है।
 

63 आदर्श केन्द्रों में सात बनाए जा रहे प्ले स्कूल

कटनी जिले में 1712 आंगनबाड़ी केन्द्रों में से 63 केन्द्रों को मॉडल सेंटर के रूप में विकसित किया जा रहा है। जिसमें से 32 आंगनबाड़ी केन्द्र मॉडल के रूप में तैयार हो चुके हैं, इनमें से हर ब्लाक में एक प्ले स्कूल पैटर्न का एक आंगनबाड़ी केन्द्र होगा। उन्ही केन्द्रों को इसमें शामिल किया जा रहा है, जहां भवन, बाउंड्रीवाल, शौचालय, पेजयल, बिजली कनेक्शन होंगे। यदि किसी सेंटर में बिजली कनेक्शन नहीं है तो वहां सोलर पैनल लगाने की तैयारी है। महिला बाल विकास विभाग के अनुसार विजयराघवगढ़ ब्लॉक के अमेहटा, बड़वारा के कुआं, रीठी के निटर्रा, बहोरीबंद के स्लीमनाबाद एवं कटनी आंगनबाड़ी नंबर 218 को प्ले स्कूल बनाया जा रहा है। भवनों की मरम्मत एवं  वॉल पेंटिंग कराई जा रही है।

मंत्री को पसंद आया प्रयोग

उल्लेखनीय है कि तत्कालीन कलेक्टर डॉ.पंकज जैन की बिटिया एवं आईएएस दम्पति नोबल ए-आर.उमा माहेश्वरी ने बेटे का शासकीय आंगनबाड़ी केन्द्र में एडमीशन कराया था। जिसकी प्रदेश की महामहिम राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने भी सराहना की थी। मॉडल आंगनबाड़ी का यह प्रयोग महिला विकास मंत्री इमरतीदेवी को भी पसंद आया। पिछले दिनों कटनी जिले के प्रवास पर आए महिला बाल विकास विभाग के आयुक्त एम.बी.ओझा ने मॉडल आंगनबाड़ी केन्द्र का निरीक्षण किया और पूरी रिपोर्ट विभाग की मंत्री को सौंपी। मंत्री इमरतीदेवी ने प्रदेश के हर ब्लॉक में इसी तरह से आंगनबाड़ी केन्द्र विकसित करने की मुहिम शुरू हो चुकी है।  जिले के 63 आंगनबाड़ी केन्द्रों को आदर्श बनाने का काम चल रहा है। जन सहयोग से बच्चों के लिए खिलौने एवं खेल की सुविधाएं जुटाई जा रही हैं। साथ ही शौचालय, वॉशबेसिन की व्यवस्थाएं की जा रही हैं। बच्चों को आंगनबाड़ी केन्द्रों हाथ धोने सहित स्वच्छता से रहने की सीख दी जाती है।

इनका कहना है

कटनी के मॉडल आंगनबाड़ी को प्रदेश सरकार से भी सराहना मिली है। हर ब्लाक में एक मॉडल आंगनबाड़ी को प्ले नर्सरी स्कूल की तर्ज पर विकसित किया जारहा है। मैंने स्वयं आंगनबाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण कर आवश्यक व्यवस्थाएं करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। - एस.बी. सिंह, कलेक्टर कटनी
 

खबरें और भी हैं...