comScore

डकैत के रिश्तदारों ने कर दी वृद्ध की हत्या, मृतक के पुत्रों को आरोप 

डकैत के रिश्तदारों ने कर दी वृद्ध की हत्या, मृतक के पुत्रों को आरोप 

डिजिटल डेस्क, सतना। नागौद थाना क्षेत्र में कुलगढ़ी बांध के पास पत्थर से हमलाकर वृद्ध की हत्या कर दी गई, जिससे इलाके में सनसनी फैल गई। वहीं पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है, जबकि परिजन ने एक दशक पूर्व एनकाउंटर में मारे जा चुके डकैत के रिश्तेदारों पर हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक 62 वर्षीय बलराम पांडेय पुत्र स्वर्गीय रामाश्रय पांडेय की दुधारू भैंस बुधवार शाम से लापता थी। जिसकी तलाश में गुरुवार को दिनभर गांव के आसपास भटकने के बाद शाम लगभग 7 बजे कुलगढ़ी बांध की तरफ निकल पड़े, लेकिन देर रात तक वापस नहीं लौटे, तब वृद्ध के दो पुत्रों ने अन्य के लोगों के साथ तलाश शुरू कर दी। रात लगभग दो बजे बलराम पांडेय बांध के पास खून से लथपथ हालत में पड़े मिले, जिन्हें निजी वाहन से तुरंत जिला अस्पताल लाया गया, जहां कुछ देर उपचार चलने के बाद उनकी सांसें थम गईं। शुक्रवार सुबह अस्पताल चौकी पुलिस ने मर्ग पंचनामा कर शव का पोस्टमार्टम कराया और शव परिजन के सुपुर्द कर दिया। 

घटना स्थल पर खून के छीटे, जूता, चश्मा और मोबाइल मिला

इस घटना की खबर रात में पुलिस को मिली थी, लेकिन जब तक थाने का अमला मौके पर पहुंचा तब वृद्ध को परिवारजन अस्पताल ले गए थे। ऐसे में एसडीओपी रविशंकर पांडेय और टीआई मनोज सोनी ने शुक्रवार सुबह फॉरेंसिक अधिकारी डा. महेन्द्र सिंह के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर जांच-पड़ताल शुरू कर दी। सघन सर्चिंग करने पर वृद्ध के मिलने की जगह से लगभग 5 सौ मीटर दूर खून से सनी छड़ी, वृद्ध का जूता, चश्मा हाथ लग गया तो आसपास के पत्थरों पर खून के छीटे भी मिले। घनी झाडिय़ों की तलाशी लेने पर मोबाइल भी मिल गया। फॉरेंसिक टीम ने तमाम चीजें जांच के लिए कब्जे में ले ली हैं। 

एनकाउंटर से जुड़े तार

मृतक के छोटे पुत्र प्रदीप पांडेय ने थाने में सूचना देने के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों को बताया कि लगभग 14 वर्ष पूर्व इनामी डकैत कन्हैया कोल को नागौद के तत्कालीन थाना प्रभारी इशरार मंसूरी ने मुठभेड़ में मार गिराया था। तब से उसके परिजन को संदेह था कि बलराम पांडेय ने मुखबिरी की है।  डकैत ने पांडेय परिवार के घर में बंदूकों के दम पर डकैती भी की थी, जिसके बाद पूरे परिवार ने एक जुट होकर काफी समय तक उसका विरोध किया और पुलिस की मदद करते रहे थे।  संभवत: उसी रंजिश के चलते मारे गए डकैत के परिजन व रिश्तेदारों ने मौका पाकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया। परिजन के आरोप व ग्रामीणों से प्रारंभिक पूछताछ के बाद एक संदेही को हिरासत में ले लिया गया है। इस सम्बंध में टीआई श्री सोनी ने कहा कि प्रथम दृष्टया हत्या की बात सामने आ रही है। मृतक के मोबाइल को साइबर सेल के हवाले कर सीडीआर निकलवाई जा रही है तो रंजिश के एंगल को भी खंगाला जा रहा है। पीएम रिपोर्ट मिलने पर स्थिति और भी स्पष्ट हो जाएगी।

कमेंट करें
rBu1U