मिल रहा प्रतिसाद: वाशिम में भी पुलिस का डायल 112 शुरु, वर्ष 2021 में गुमशुदा 152 पुरुष, 238 महिलाओं को खोजा

February 11th, 2022

डिजिटल डेस्क, वाशिम। जिला पुलिस अधीक्षक बच्चन सिंह ने अपना पदभार स्वीकारने के बाद से अनेक उपक्रम हाथ में लिए । महिला व युवतियों की सुरक्षा के लिए निर्भया पथक की स्थापना कर ज़रुरतमंदों को विहित समय पर मदद उपलब्ध करवाई तो पीड़ितों के साथही संकट में पड़े व्यक्तियों को तत्काल मदद उपलब्ध हो, इस हेतु डायल 112 की स्थापना की गई, जिसे नागरिकों का उत्तम प्रतिसाद मिल रहा है । इसके अलावा उन्होंने महिलाओं तथा युवतियों के लिए विविध उपक्रम हाथ में लिए है और इसके लिए वाशिम में अनैतिक मानवी यातायात प्रतिबंधक कक्ष कार्यान्वित किया गया । साथही नियंत्रण कक्ष वाशिम में मिसिंग डेस्क कार्यान्वित है, जिसके द्वारा गुमशुदा महिला और पुरुषों को खोजने के लिए सतत प्रयास किए जाते है । वर्ष 2021 में जिले में 18 वर्ष आयूवर्ग से अधिक 187 पुरुष गुम हुए थे जिसमें से 152 को खोजा गया है । इसी प्रकार गुमशुदा 290 महिलाओं में से 238 महिलाओं को खाेजा गया है । इसके अलावा मिसिंग डेस्क द्वारा वर्ष 2021 की समयावधि में 51 महिला, 7 लड़कियों, 2 लड़के और 14 पुरुषाें का पता लगाया गया । 

विशेष शोध दल भी किए तैयार

मिसिंग डेस्क की कार्रवाई के दौरान नियंत्रण कक्ष वाशिम से गुम हुए महिला व पुरुषों के शिकायतकर्ता से प्रत्यक्ष संपर्क कर महिला व पुरुष मिले या नहीं, इसे लेकर मोबाईल क्रमांक पर संपर्क कर प्रतिमाह प्रयास कर खोजने की कार्रवाई की जा रही है । मिसिंग डेस्क कार्रवाई के दौरान गुम हुई महिलाओं के परिजनों से संपर्क कर महिला घर लौटी या नहीं, इसे लेकर फोन द्वारा पुछताछ करने पर मंगरुलपीर पुलिस स्टेशन क्षेत्र की मिसिंग महिला को लेकर 22 सप्टेंबर 2021 को पुलिस स्टेशन में शिकायत मिली थी । इस मामले में पुलिस ने हरसंभव प्रयास कर सम्बंधित गुमशुदा महिला का 16 अक्टूबर 2021 को पता लगाया और वह मिल गई । इसके अलावा अनसिंग पुलिस स्टेशन क्षेत्र की एक महिला अपने छोटे बच्चे के साथ 5 अप्रैल 2021 को गुम हुई थी और इसकी शिकायत भी अनसिंग पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई । इस गुमशुदा महिला और उसके छोटे बालक को पुलिस ने अथक परिश्रम के बाद खोज निकाला और उनके परिजनों के हवाले किया । जिले में 15 जनवरी 2022 से 15 फरवरी 2022 की समयावधि के दौरान गुमशुदा / भगाकर ले गए लड़के / लड़कियों तथा महिला / पुरुषों को खोजने के लिए पुलिस स्टेशन स्तर पर अधिकारी, पुलिस कर्मचारी तथा महिला पुलिस कर्मचारी के विशेष शोध पथक तैयार किए गए है ।