comScore

राजस्थान की सियासत: जयपुर में कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग, गहलोत ने बुलाई कैबिनेट बैठक

राजस्थान की सियासत: जयपुर में कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग, गहलोत ने बुलाई कैबिनेट बैठक

डिजिटल डेस्क, जयपुर। राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच मंगलवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी हुई। जयपुर के फेयरमोंट होटल में कांग्रेस की में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी मौजूद रहे। इस दौरान गहलोत ने कहा, चाहे कांग्रेस हो या भाजपा कोई नहीं चाहता, विधानसभा भंग हो। विधायकों को संबोधित करते हुए गहलोत ने कहा, जिस तरह की लड़ाई आपने लड़ी है, वो मामूली बात नहीं। सब लोगों को साथ रहना है आप लोगों पर किसी भी तरह का कोई दवाब नहीं है। टेलीफोन और मोबाइल आपके पास है।

गहलोत ने सीएम आवास पर कैबिनेट बैठक बुलाई है। बैठक में सीएम अशोक गहलोत कोरोना समेत प्रदेश से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा कर सकते हैं। वहीं इस मीटिंग में विधानसभा सत्र बुलाने को लेकर चर्चा हो सकती है। बता दें कि, सरकार बुधवार को विधानसभा का संक्षिप्त सत्र बुलाने को लेकर लगातार मंथन कर रही है।

राजस्थान में जुबानी जंग भी जारी है। सोमवार को सीएम अशोक गहलोत ने सचिन पायलट को जमकर खरी खोटी सुनाई थी। गहलोत ने कहा, उन्हें पता था कि पायलट निकम्मा है, नाकारा है। वह बीजेपी के साथ मिलकर सरकार गिराने की साजिश रच रहे थे। लंबे वक्त से वो सब नोटिस कर रहे थे, लेकिन प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए ही सचिन पायलट को अपनी सरकार गिराने में दिलचस्पी थी।

हैरानी की बात ये है कि, गहलोत के इतने बड़े हमले के बाद भी सचिन पायलट का एक बयान भी सामने आया। पायलट ने सिर्फ ये कहा कि, उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश की जा रही है। हालांकि, पायलट का ये बयान गहलोत नहीं बल्कि उस विधायक को लेकर था जिसने सचिन पायलट पर 35 करोड़ रुपये का ऑफर देने का आरोप लगाया था।

सियासी उठापटक के दौर में बीजेपी भी हमला बोलने से पीछ नहीं है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने नाकारा, निकम्मे वाले बयान को लेकर पर सिर्फ गहलोत ही नहीं बल्कि राहुल और सोनिया गांधी पर भी इशारों में प्रहार किया। पात्रा ने गहलोत के बयान को लेकर ट्वीट कर कहा, 'नकारा, निकम्मा, गहलोत जी का कहीं पे नज़ारा कहीं पे इशारा।

वहीं ऑडियो टेप मामले में एसओजी की ओर से नोटिस मिलने के बाद केन्द्रीय मंत्री शेखावत भी कांग्रेस पर हमला बोल रहे हैं। शेखावत ने ताजा बयान में गहलोत सरकार को घेरते हुए कहा, यह कोरोना से लड़ने का समय था और आप अंताक्षरी खेलने लगे। यह गरीब को भोजन देने का समय था और आप इटालियन बनाना सीखने लगे। राजस्थान सतर्क है, सब देख रहा है।

कमेंट करें
E2szP