जवाब: शिंदे ने कहा - बगावत करने के लिए नहीं किया था दानवे को फोन

July 21st, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। शिवसेना के विधान परिषद सदस्य अंबादास दानवे को बगावत के लिए फोन आने वाले बयान पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने जवाब दिया है। गुरुवार को मुख्यमंत्री ने स्वीकार किया कि उन्होंने दानवे को फोन किया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने दानवे को बगावत करने के लिए फोन नहीं किया था। दानवे शिंदे गुट में शामिल औरंगाबाद के शिवसेना के विधायकों की पत्नियों और बच्चों को फोन कर कह रहे थे कि आप विधायक को कहिए कि मुझे फोन करें। इसलिए मैंने दानवे को फोन करके पूछा था कि आप बागी विधायकों के बॉस हैं क्या। शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे ने आपको फोन करने के लिए अधिकार दिए हैं क्या? मुख्यमंत्री ने कहा कि हम भी बागी नहीं हैं। हम ही शिवसेना हैं। इसके पहले दानवे ने औरंगाबाद में कहा था कि मुझे शिंदे ने बागी गुट में शामिल होने के लिए फोन किया था। शिंदे ने मुझसे कहा था कि मैंने आपके विधान परिषद चुनाव के समय मदद की थी। जिस पर मैंने उन्हें स्पष्ट कहा था कि मैं उद्धव ठाकरे की शिवसेना के साथ रहूंगा। आपने पार्टी नेतृत्व के आदेश पर मेरे चुनाव में मदद की थी। मेरे लिए आपने कोई व्यक्तिगत काम नहीं किया था।