comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

विशेष लेख : बिलासपुर : ‘‘पढाई तुंहर दुआर‘‘ एवं ‘‘पढ़ई तुंहर पारा‘‘ जैसे कार्यक्रमों से शिक्षक जगा रहे शिक्षा का अलख

December 23rd, 2020 16:34 IST
विशेष लेख : बिलासपुर : ‘‘पढाई तुंहर दुआर‘‘ एवं ‘‘पढ़ई तुंहर पारा‘‘ जैसे कार्यक्रमों से शिक्षक जगा रहे शिक्षा का अलख

डिजिटल डेस्क, बिलासपुर। बिलासपुर जिले में कोविड 19 के कारण अप्रैल 2020 से विद्यालयों मे बच्चों की नियमित पढाई नहीं हो पाने के बावजूद कलेक्टर डाॅ.सारांश मित्तर के मार्गदर्शन में जिले के शिक्षकों द्वारा ‘‘पढ़ई तुंहर दुआर‘‘ एवं पढ़ई तुंहर पारा जैसे कार्यक्रमों से बच्चों को लगातार शिक्षा दी जा रही है। स्कूल शिक्षा विभाग के पोर्टल के माध्यम से आॅनलाईन कक्षाओं की शुरुआत की गई है साथ ही मोबाईल विहिन बच्चों को विविध प्रकार के वैकल्पिक साधनों-पढ़ई तुंहर पारा, मोहल्ला कक्षाएं, लाउड स्पीकर स्कूल और बुल्टू के बोल के द्वारा अध्यापन कराया जा रहा है। जिले में कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चों को षिक्षा के मुख्य धारा से जोडे रखने एवं वैकल्पिक षिक्षा पद्धति के सुचारु रुप से संचालन हेतु जिला स्तर विकासखण्ड एवं संकुल स्तर पर नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। बिलासपुर जिले में 1114 प्राथमिक 520 उच्च प्राथमिक (मिडिल) 110 माध्यमिक (हाईस्कूल) एवं 108 उच्चतर माध्यमिक (हा.से.) सहित कुल 1852 स्कूल संचालित है, जिनमें से 17 नेटवर्क विहीन स्कूलों को छोड़कर शेष 1837 शासकीय विद्यालयों में वर्चुअल ग्रुप बनाया गया है। वर्चुअल स्कूलों में कुल 9143 षिक्षक तथा कुल दर्ज संख्या 251543 में से 179240 बच्चे पंजीकृत है। जिले के समस्त 218 हाई/हा.से. विद्यालयों सहित कुल 387 विद्यालयों में नियमित रूप से आॅनलाईन कक्षा का संचालन किया जा रहा है। जिले के षिक्षकों द्वारा माह अपै्रल से अब तक 303084 आॅनलाईन कक्षाएं ली गई है। जिसमें औसत 55 विद्यार्थी प्रत्येक कक्षा में उपस्थित रहते है। शासकीय शालाआंे में विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में अध्ययनरत बालकों के पास मोबाईल और नेटवर्क की सुविधा उपलब्ध नहीं रहती इसलिये इन विद्यालयों में वैकल्पिक साधनों से षिक्षा दी जा रही है। पूरे जिले में वैकल्पिक षिक्षा-पढ़ई तुंहर पारा के अंतर्गत 1359 षिक्षकों द्वारा 2274 मोहल्ला/पारा कक्षा का संचालन किया जा रहा है। जिसमें प्राथमिक शाला के 24867 पूर्व माध्यमिक के 15233 हाई/हा.से. के 2021 कुल 42121 बच्चे अपने मोहल्ला में ही शिक्षकों से पढ़ाई कर रहे है। इसके साथ-साथ 161 लाउड स्पीकर एवं 344 बुल्टू के बोल के द्वारा क्रमषः 3856 एवं 3132 बच्चों को षिक्षक एवं षिक्षा सारथी उनके गांव में जाकर अध्यापन करा रहे है। जिले में आनलाईन कक्षा लेने वाले षिक्षकों के द्वारा नवीन तकनीकों का प्रयोग किया जा रहा है। cgschool.in पोर्टल द्वारा शिक्षक न केवल आॅनलाईन अध्यापन कर रहे है वरन विष्व दिव्यांग दिवस, बाल दिवस गांधी जयंती जैसे महत्वपूर्ण दिवसों का भी जिला स्तरीय वेबीनार आयोजन किया जा रहा है। इसी प्रकार कोविड-19 संक्रमण काल में स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार के गाईड लाईन-सेनेटाईजर, मास्क का प्रयोग एवं सोषल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए षिक्षको के द्वारा षिक्षा के नवीनतम तकनीको एवं सहायक सामग्रियों का उपयोग करते हुए पारा/मोहल्ला कक्षाओ का संचालन कर रहे है। कन्टेनमेंट जोन के गांवो में षिक्षकों के द्वारा लाउडस्पीकर स्कूल तथा बुल्टू के बोल के द्वारा ष्शैक्षणिक सामग्री उपलब्ध कराते हुए बच्चों के पढ़ाई में निरतंरता रखा जा रहा है। शिक्षकों द्वारा बच्चों को शिक्षा देने के लिये अपनायी जा रही नवीन तकनीकों को स्कूल शिक्षा विभाग के स्कूल षिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डाॅ. आलोक शुक्ला ने अपने बिलासपुर प्रवास के दौरान जिले के विभिन्न विकासखंडों में संचालित मोहल्ला/पारा स्कूलों का भ्रमण किया तथा षिक्षकों के प्रयास की भरपूर सराहना करते हुए षिक्षकों का उत्साहवर्धन किया।

कमेंट करें
NKEhP
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।