comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मुकेश अंबानी के घर के बाहर जैश-उल-हिंद के आतंकियों ने SUV में रखा था विस्फोटक, जिम्मेदारी लेते हुए कही ये बात 

मुकेश अंबानी के घर के बाहर जैश-उल-हिंद के आतंकियों ने SUV में रखा था विस्फोटक, जिम्मेदारी लेते हुए कही ये बात 

हाईलाइट

  • बीते दिनों एसयूवी स्कॉर्पियो में मिला था विस्फोटक
  • जैश-उल-हिंद ने इस मामलू में जिम्मेदारी ली है
  • संठन ने मैसेज में जांच एजेंसी को चुनौती दी है

डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर एंटीलिया के बाहर बीते दिनों एक स्कॉर्पियो में जिलेटिन की 20 छड़ें मिली थीं। इस मामले में जैश-उल हिंद नाम के एक संगठन ने जिम्मेदारी ली है। संगठन ने एक मैसेज के जरिए जांच एजेंसी को चुनौती दी है। 

संगठन ने मैसेज में लिखा गया है, 'रोक सकते हो तो रोक लो, तुम कुछ नहीं कर पाए थे जब हमने तुम्हारी नाक के नीचे दिल्ली में तुम्हें हिट किया था, तुमने मोसाद के साथ हाथ मिलाया लेकिन कुछ नहीं हुआ।' इसके आखिर में लिखा है कि तुम्हें (अंबानी के लिए) मालूम है तुम्हें क्या करना है। बस पैसे ट्रांसफर कर दो जो तुम्हें पहले कहा गया है।

दो साल बाद पाकिस्तान ने विंग कमांडर अभिनंदन का नया वीडियो जारी किया

क्या है पूरा मामला
बीते दिनों उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर एक स्कॉर्पियो में जिलेटिन की 20 छड़ें मिली थीं। बुधवार रात को एक बजे के आसपास स्कॉर्पियो को खड़ा किया गया था। सूत्रों के मुताबिक, इस संदिग्ध गाड़ी में से एक पत्र भी मिला था। जिसमें लिखा था, ‘ये तो सिर्फ एक ट्रेलर है। नीता भाभी, मुकेश भैया, ये तो सिर्फ एक झलक है। अगली बार सामान पूरा होकर तुम्हारे पास आएगा और पूरा इंतजाम हो गया है।’

मुंबई पुलिस की टीम ने संदिग्ध कार को कब्जे में लेने के बाद मामले की जांच शुरु कर दी थी। साथ ही अंबानी के घर के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई। बता दें कि इस मामले की जिम्मेदारी लेने वाले संगठन जैश-उल-हिंद ने ही दिल्ली में इजरायल एम्बेसी के बाहर ब्लास्ट की जिम्मेदारी ली थी।

आतंकवाद निरोधक दस्ते के एक अधिकारी ने बताया कि कार से बरामद नोट और जैश उल हिंद के अब पोस्ट किए गए संदेश में साफ तौर पर अंतर नजर आ रहा है। अब तक जैश उल हिंद नाम के किसी संगठन के जमीन पर मौजूदगी के सबूत नहीं मिले हैं। मीडिया तक संदेश कैसे पहुंचा पुलिस इसकी भी छानबीन कर रही है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक इस तरह का मौका मिलने के बाद आतंकी संगठन सिर्फ धमकी नहीं देते बल्कि धमाका कर देते। जैस उल हिंद का नाम पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के सहयोगी संगठन के तौर पर सामने आया था लेकिन इसकी कभी पुष्टि नहीं हुई है।
 

कमेंट करें
SEzNk