comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

24 सितंबर को लॉन्च होगा Motorola और Google की साझेदारी वाला Motorola One Power

September 19th, 2018 16:47 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लेटेस्ट फीचर और पावरफुल कैमरे के साथ अब स्मार्टफोन कंपनियां कम समय में अच्छे बैटरी बैकअप वाले फोन पर फोकस कर रही हैं। पिछले दो माह में Oppo F9 Pro और Vivo V11 Pro जैसे कई स्मार्टफोन लाॅन्च हुए, जिनमें बिग बैटरी के साथ क्विक चार्ज सिस्टम दिया गया। ऐसे में Motorola कंपनी भारत में अपने 5000 mAh की बैटरी वाला स्मार्टफोन लाॅन्च करने जा रही है, जो 15 मिनट चार्ज करने पर 6 घंटे तक उपयोग किया जा सकेगा। लेनोवो के  मालिकाना हक वाली Motorola, 24 सितंबर को दिल्ली NCR में आयोजित इवेंट में अपने नए स्मार्टफोन Motorola One Power को लाॅन्च करेगी। कंपनी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर इस फोन का टीजर जारी करते हुए लाॅन्च की पुष्टि की है। जिसमें बताया गया कि यह Motorola और Google की साझेदारी में बनाया स्मार्टफोन है। बता दें कि Motorola One Power को हाल ही में IFA में पेश किया गया था। इसकी कीमत करीब 15,000 रुपए तक हो सकती है। नाॅच डिस्प्ले वाले इस फोन में और क्या होगा खास आइए जानते हैं...

डिस्प्ले
इस फोन में 6.2 इंच की फुल एचडी नॉच डिस्प्ले दी गई है, जो कि 1080 x 2246 पिक्सल का रेज्यूलेशन देती है।

कैमरा
Motorola One Power में डुअल रियर कैमरा दिया गया है। इसमें 16 MP का प्राइमरी और 5 MP का सेकंडरी सेंसर दिया गया है। वहीं सेल्फी के लिए फोन में 12 MP का फ्रंट कैमरा दिया गया है।

रैम/ प्रोसेसर
यह फोन दो वेरिएंट 3 GB रैम 32 GB स्टोरेज क्षमता और 4 GB रैम 64 GB स्टोरेज क्षमता के साथ आएगा। इसकी स्टोरेज क्षमता को माइक्रोएसडी कार्ड द्वारा 256 GB तक बढ़ाया जा सकता है। फोन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 636 प्रोसेसर दिया गया है। इसमें नया प्लेटफार्म Android 9 Pie दिया जा सकता है।

कनेक्टिविटी
इस फोन में 4G LTE, वाई-फाई 802.11 a/b/g/n/ac, ब्लूटूथ 5.0, GPS, USB टाइप- सी और 3.5mm हेडफोन जैक के अलावा ग्राफिक्स के लिए एड्रेनो 506 जीपीयू इंटिग्रेटेड दिया गया है।

बैटरी
Motorola One Power में 5000 mAh की बिग बैटरी दी गई है। खासियत यह कि इसे कंपनी के टर्बोचार्जर से 15 मिनट चार्ज करने पर 6 घंटे तक उपयोग किया जा सकेगा।

सुरक्षा
इस फोन के रियर में सुरक्षा के लिए फिंगरप्रिंट सेंसर दिया गया है। 

कमेंट करें
Xh2Tv
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।