comScore

राममंदिर भूमिपूजन को लेकर चारों ओर रामनाम की गूंज

August 05th, 2020 12:00 IST
 राममंदिर भूमिपूजन को लेकर चारों ओर रामनाम की गूंज

हाईलाइट

  • राममंदिर भूमिपूजन को लेकर चारों ओर रामनाम की गूंज

अयोध्या, 5 अगस्त (आईएएनएस)। अयोध्या में काफी वर्षों से चल रही प्रतीक्षा आज खत्म हो गई। मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन की घड़ी आ गई है। सारी तैयारियां खत्म हो चुकी हैं। चारों तरफ रामधुन का गान हो रहा है। पूरी अयोध्या रामनाम से गुंजायमान है।

राम जन्मभूमि पर पूजन के लिए देश भर के धर्माचार्यो के साथ कर्मकांड विद्वान बुलाए गए हैं। यहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ काशी विद्वत परिषद के तीन सदस्य पूजा में बैठेंगे।

राम जन्म भूमि के लिए अतिथि निकलने शुरू हो गए हैं। बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय संयोजक प्रकाश शर्मा राम जन्म भूमि के लिए निकल गए हैं।

मंदिर आयोजक मंडल से जुड़े एक सदस्य ने बताया कि 12 बजकर 40 मिनट 08 सेकेंड पर मंदिर की आधारशिला रखी जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी के साथ पूजन के मंच पर अध्यक्ष राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र महंत नृत्यगोपालदास, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत रहेंगे।

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के लिए वहां मौजूद मेहमानों और सभी लोगों के लिए बड़ी एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं, जिनके जरिए लोग इस भूमि पूजन कार्यक्रम का लाइव प्रसारण देख सकेंगे।

राम कोट भूमिपूजन स्थल पर बड़े पैमाने पर वेदर प्रूफ टेंट लगे हुए हैं। यहां पर सुबह से ही हल्की बारिश हो रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन की जोरदार तैयारियों के बीच यहां पर कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के भी उपाय हो रहे हैं। मोदी अयोध्या पहुंचने पर सबसे पहले हनुमान गढ़ी जाएंगे। इसी कारण हनुमान गढ़ी मंदिर का सैनिटाइजेशन किया गया है। मंदिर के हर कोने को सैनिटाइज किया गया है। सरयू घाट को भव्य तरीके से सजाया गया है।

अयोध्या में भूमिपूजन कार्यक्रम में आमंत्रित किए गए मेहमानों को खास सिक्युरिटी कोड से युक्त निमंत्रण कार्ड दिया गया है। एक कार्ड पर एक व्यक्ति ही आ सकता है, उसके साथ न कोई सहयोगी होगा न ही उसके पास किसी तरह का इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, उपकरण या मोबाइल आदि होगा। अतिथियों को कार्ड के कोड से प्रवेश मिल रहा है।

रामनगरी रामलला के भव्य मंदिर निर्माण के उल्लास में डूबी नजर आ रही है। घर-घर में तैयारियों और उल्लास का माहौल है। सड़कों-गलियों से लेकर छतों तक पर केसरिया झंडे लहरा रहे हैं।

ज्ञात हो कि नौ नवंबर को आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले से राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ होने के बाद से ही मंदिर निर्माण शुरू होने की प्रतीक्षा कर रहे अयोध्यावासी जमकर खुशियां मना रहे हैं। विश्व हिंदू परिषद, अन्य हिंदूवादी संगठन भी उल्लासित नजर आ रहे हैं।

कमेंट करें
7eUZK