comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

चांदनी चौक के बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग हुई मुश्किल

June 05th, 2020 13:30 IST
 चांदनी चौक के बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग हुई मुश्किल

हाईलाइट

  • चांदनी चौक के बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग हुई मुश्किल

नई दिल्ली, 5 जून (आईएएनएस)। दिल्ली सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के बाद चांदनी चौक के अधिकांश इलाकों में बाजार खोल दिए गए हैं। मसालों, मेवों मिठाई, कपड़ों, हार्डवेयर, फुटवेयर, एस्टेशनरी, बेकरी जैसी कई दुकानें खुल गई हैं। हालांकि यहां छोटी-छोटी दुकानें होने के कारण इनमें से कई स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग बेहद मुश्किल हो गई है।

जिन इलाकों में यह दुकानें खुली हैं उनमें चांदनी चौक, खारी बावली, कश्मीरी गेट, फतेहपुरी आदि शामिल हैं। कई स्थानों पर दुकानें काफी छोटी हैं तो कहीं पर दुकानों के सामने ग्राहकों के खड़े होने के लिए ज्यादा स्थान नहीं है।

चांदनी चौक के अलग-अलग बाजारों में सैकड़ों ऐसी दुकानें हैं, जहां खरीदार और दुकानदार के बीच सोशल डिस्टेंसिंग नहीं हो पा रही है। दुकान में दो-तीन ग्राहक होने पर ग्राहकों और दुकानदारों के बीच महज एक 2 फीट की दूरी ही रह जाती है।

चांदनी चौक में बीते 50 वर्षों से बच्चों के कपड़े बेचने के खानदानी धंधे से जुड़े ओम प्रकाश गुप्ता ने कहा कि हमारी दुकान में हमें सारा माल भी रखना होता है। ग्राहक को अगर वैरायटी न मिले तो वह माल नहीं खरीदता। मेरे अलावा दुकान में 2 कर्मचारी भी हैं। ग्राहक दुकान के अंदर काउंटर पर सामान खरीदते हैं और हमारे पास सोशल डिस्टेंसिंग की गुंजाइश ही नहीं है।

कुछ ऐसी ही स्थिति फतेहपुरी की मिठाई, खोया और पनीर की दुकानों पर भी दिखी। सभी खरीदार दुकान के बाहर से ही खरीदारी कर सकते हैं। फुटपाथ पर खड़े यह लोग न तो किसी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे थे न ही दुकानदार की ओर से सोशल डिस्टेंसिंग की कोई व्यवस्था की कोई थी।

फतेहपुरी के कारोबारी चंद्र प्रकाश प्रकाश शर्मा ने कहा कि हमारी दुकान में ज्यादा जगह नहीं है और हम फुटपाथ पर सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था कैसे कर सकते हैं। फुटपाथ केवल पांच-छह फीट चौड़ा है यदि उस पर भी गोले बनाकर लोगों की लाइन लगा दें तो फिर पैदल आने जाने वाले लोग मार्केट में कैसे आएंगे।

चांदनी चौक के अलग-अलग कटरों और थोक बाजारों में हालत इससे भी ज्यादा खराब है। कई दुकानों की चौड़ाई तो 5 फीट भी नहीं है। यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए महज दो व्यक्ति भी एक दुकान के बाहर खड़े नहीं हो सकते। इसी तरह थोक बाजारों में भी दुकाने एक दूसरे से सेट कर बनी हुई हैं। चार चार मंजिल के कई बाजारों में गलियां और सीढ़ियां भी बेहद सकरी हैं।

कुछ ऐसे ही हालात को देखते हुए अभी तक दिल्ली की सबसे बड़ी थोक मार्केट सदर बाजार नहीं खुल सका है। यह इलाका दिल्ली सरकार की हॉटस्पॉट लिस्ट में शामिल रहा है।

कमेंट करें
trhDL
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।