comScore

Corona Virus: जापान के क्रूज में फंसी मुंबई की सोनाली ठक्कर, सरकार से गुहार- इंफेक्शन फैल रहा है, जल्द बचाओं


हाईलाइट

  • क्रूज को योकाहामा पोर्ट पर आइसोलेट करके रखा गया है
  • क्रूज पर 138 भारतीय क्रू और टूरिस्ट हैं

डिजिटल डेस्क, बीजिंग। चीन में शुरू हुआ कोरोना वायरस(Corona Virus) का कहर लगातार बढ़ते ही जा रहा है। चीन में ही मरने वालों की संख्या गुरुवार तक बढ़कर 1,367 हो गई है। बुधवार को हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस से एक दिन में 242 लोगों की मौत हो गई। विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) ने कोरोना वायरस का नाम बदलकर सीओवीआईडी-19(COVID-19) कर दिया है। वहीं पूरी दुनिया इस वायरस के चपेट में आ रही है। 

जापान में फंसे यात्री
जापान में एक लग्जरी क्रूज डायमंड प्रिंसेस(Diamond Princess) को योकाहामा पोर्ट (Yokohama Port) पर सरकार ने आइसोलेट रखा है। जहाज के 219 यात्री कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, जिसमें दो भारतीय भी शामिल है। जहाज पर क्रू और टूरिस्ट को मिलाकर कुल 138 भारतीय है। 

Coronavirus: कोरोना वायरस से मरते दंपति का वीडियो वायरल, देखकर आंसू रोक नहीं पाएंगे

मदद की गुहार
क्रूज में फंसे भारतीयों ने मोदी सरकार से उन्हें बचाने की गुहार लगाई है। क्रूज में सवार भारतीय सिक्यॉरिटी ऑफिसर सोनाली ठक्कर(Sonali Thakkar) को बुखार और अन्य लक्षणों के बाद आइसोलेशन पर रखा गया है। मुंबई निवासी सोनाली ने एक टीवी चैनल को फोन पर बताया कि हम बहुत डरे हुए हैं, क्योंकि इंफेक्शन तेजी से फैल रहा है। उन्होंने कहा, हम चाहते हैं कि भारत सरकार हमें देश ले जाए। वहां अलग रखे या कुछ मेडिकल स्टाफ भेज दें जो टेस्ट करके मदद कर सकें। 

Coronavirus: इस चटोरी महिला ने फैलाया कोरोना वायरस! भूख लगने पर पिया था चमगादड़ का सूप

भारतीय क्रू मेंबर्स ने वीडियो जारी किया
इससे पहले जहाज में फंसे भारतीय क्रू मेंबर्स ने वीडियो जारी कर केंद्र सरकार से मदद मांगी थी। पश्चिम बंगाल के शेफ बिनय कुमार सरकार ने सोशल मीडिया के जरिए सरकार से अपील की। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह हम लोगों को बचा लीजिए। 

वायरस के चलते तेल-तिलहन में छायी मंदी
कोरोना वायरस का प्रकोप गहराने से दुनियाभर के बाजारों में मंदी का माहौल है, जिससे कृषि उत्पाद बाजार भी प्रभावित हुआ है। पाम तेल के दाम में आई भारी गिरावट से भारत में तमाम तेल-तिलहनों में मंदी छा गई है, ऐसे में किसानों की परेशानी बढ़ेगी क्योंकि रबी सीजन की फसल की आवक जोर पकड़ने पर उनको सरसों व अन्य तिलहन फसलों का उचित दाम नहीं मिल पाएगा। मालूम हो कि चीन पाम तेल का प्रमुख आयातक है, लेकिन कोरोना वायरस फैलने के बाद चीन में उसके आयात पर काफी असर पड़ा है जिसके कारण पाम के प्रमुख उत्पादक देश मलेशिया और इंडोनेशिया में पाम तेल दाम में भारी गिरावट आई है। भारत में पाम तेल के दाम में बीते एक महीने में करीब 10 रुपये प्रति किलो की गिरावट आई है। पाम तेल सस्ता होने से सरसों, सोयाबीन, मूंगफली समेत अन्य तेलों के दाम में भी नरमी का रुख बना हुआ है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर पाम तेल का भाव एक महीने में जहां 824.4 रुपये प्रति 10 किलो तक चला गया था वहां गुरुवार को घटकर 723.5 रुपये प्रति 10 किलो पर आ गया।

कमेंट करें
bskg0