comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

IAF की टीम जाएगी फ्रांस, राफेल ऑफिस में संभावित डेटा चोरी की करेगी जांच

IAF की टीम जाएगी फ्रांस, राफेल ऑफिस में संभावित डेटा चोरी की करेगी जांच

हाईलाइट

  • भारतीय वायुसेना अपनी एक फोरेंसिक टीम को फ्रांस भेजने की योजना बना रही है
  • फ्रांस में भारतीय राफेल परियोजना प्रबंधन टीम के कार्यालय में पिछले हफ्ते तोड़-फोड़ हुई थी
  • वायुसेना को संदेह है कि यह तोड़-फोड़ राफेल से संबंधित डेटा चोरी के लिए की गई हो

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना अपनी एक फोरेंसिक टीम को फ्रांस भेजने की योजना बना रही है। दरअसल, अज्ञात व्यक्तियों ने पिछले रविवार को फ्रांस में भारतीय राफेल परियोजना प्रबंधन टीम के कार्यालय में तोड़-फोड़ की थी। वायुसेना को संदेह है कि ये तोड़-फोड़ राफेल विमान से संबंधित डेटा चोरी के लिए की गई है जोकि भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकता है।

सरकारी सूत्रों ने बताया कि, 'एक फोरेंसिक टीम जिसमें साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ शामिल हैं को जांच के लिए भेजने की योजना है। शुरुआती जांच में यह सामने आया है कि कोई हार्ड डिस्क या फाइलें चोरी नहीं हुई हैं।' उन्होंने कहा कि अधिकारी यह पता लगाएंगे कि राफेल परियोजना प्रबंधन टीम के कार्यालय में तोड़-फोड़ करने के बाद अज्ञात तत्वों ने कोई सॉफ्ट कॉपी चुराई या कॉपी तो नहीं की।

बता दें कि पिछले रविवार को फ्रांस में भारतीय राफेल परियोजना प्रबंधन टीम के कार्यालय में अज्ञात लोगों ने तोड़-फोड़ की थी। इस समय फ्रांस में वायु सेना के एक ग्रुप कैप्टन रैंक के अधिकारी पूरी टीम के साथ है जो 36 लडाकू राफेल विमानों के उत्पादन की पूरी प्रकिया पर नजर रखे हुए हैं। यहां भारतीय वायु सेना के पायलटों को इन विमानों को उड़ाने का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। 

भारत ने 2010 में फ्रांस के साथ राफेल फाइटर जेट खरीदने की डील की थी। उस वक्त यूपीए की सरकार थी और 126 फाइटर जेट पर सहमित बनी थी। इस डील पर 2012 से लेकर 2015 तक सिर्फ बातचीत ही चलती रही। इस डील में 126 राफेल जेट खरीदने की बात चल रही थी और ये तय हुआ था कि 18 प्लेन भारत खरीदेगा, जबकि 108 जेट बेंगलुरु के हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड में असेंबल होंगे यानी इसे भारत में ही बनाया जाएगा।

फिर अप्रैल 2015 में मोदी सरकार ने पेरिस में ये घोषणा की कि हम 126 राफेल फाइटर जेट को खरीदने की डील कैंसिल कर रहे हैं और इसके बदले 36 प्लेन सीधे फ्रांस से ही खरीद रहे हैं।

कमेंट करें
osGT5
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।