comScore

शराबी भृत्य द्वारा छात्रों की पिटाई , पूरे स्कूल पर होगी कार्रवाई 

शराबी भृत्य द्वारा छात्रों की पिटाई , पूरे स्कूल पर होगी कार्रवाई 

डिजिटल डेस्क, कटनी। शासकीय माध्यमिक शाला बड़वारा में कक्षा आठवीं के छात्रों की पिटाई मामले में मप्र बाल संरक्षण आयोग ने कड़ा रुख अपनाया है। आयोग ने जिला शिक्षा अधिकारी को प्रधानाध्यापक सहित अन्य शिक्षकों की लापरवाही की जांच करने कहा है। आयोग की सख्ती के चलते प्रधानाध्यापक की शिकायत पर दोनों भृत्यों एवं अतिथी शिक्षक के विरुद्ध बड़वारा थाने में आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया। वहीं प्रभारी डीईओ ने एक और समिति का गठन कर स्कूल के प्रधानाध्यापक एवं उपस्थित शिक्षकों की भूमिका की जांच करने के निर्देश दिए हैं। वहीं इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने बीईओ कार्यालय के भृत्य संजय मार्को को भी निलंबित कर दिया है। निलंबन अवधि में संजय मार्को को मुख्यालय बीईओ कार्यालय बहोरीबंद नियत किया गया है। इसके अलावा अतिथी शिक्षक संतलाल डुमार की सेवाएं समाप्त कर दी हैं।

आखिर कराई एफआईआर

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार माध्यमिक शाला बड़वारा के प्रधानाध्यापक गोविंद प्रसाद दाहिया की शिकायत पर बड़वारा थाने में अपराध क्रमांक 344/19, धारा 294, 323, 34 आईपीसी एवं 75, 58 किशोर न्याय संरक्षण अधिनियम 205 के तहत जयप्रकाश मिश्रा, संजय सिंह मार्को एवं संतलाल डोमार के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध किया गया है। 

प्रधानाध्यापक भी नपेंगे

छात्रों की पिटाई मामले में प्रधानाध्यापक भी कार्यवाही की तलवार लटकी है। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से सप्ताह भर पहले ही प्राचार्योंं एवं प्रधानाध्यापकों को पत्र जारी कर स्कूल परिसर में होने वाली शराबखोरी एवं अन्य अवांछित गतिविधियों पर अंकुश लगाने के निर्देश दिए थे। अनेक स्कूलों से यह शिकायतें पहुंची थीं कि स्कूल परिसरों में अवांछित तत्वों द्वारा शराबखोरी की जाती है। सहायक संचालक शिक्षा आर.एस.पटेल ने बताया कि स्कूल परिसरों में शराबखोरी रोकने के लिए पत्र जारी किया गया था। इसके बाद भी माध्यमिक शाला बड़वारा में शराब पीकर भृत्यों द्वारा छात्रों से मारपीट कर दी गई। दोपहर दो बजे दिन में हुई घटना के बाद भी आखिर प्रधानाध्यापक क्या करते रहे। पिटाई का वीडियो अफसरों, जनप्रतिनिधियों तक पहुंच गया लेकिन प्रधानाध्यापक को  घटना का पता भी नहीं चला। 

जांच के बाद होगी एफआईआर

प्रभारी डीईओ बी.बी.दुबे के अनुसार छात्रों से मारपीट मामले की विस्तृत जांच करने एक और टीम बनाई जा रही है। प्रधानाध्यापक सहित अन्य शिक्षकों की भूमिका की जांच की जाएगी और जो भी दोषी होगा उसके विरुद्ध कार्यवाही होगी। दोषियों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज दी गई है। प्रभारी डीईओ ने बताया कि इस मामले में मप्र बाल संरक्षण आयोग ने भी संज्ञान लिया है और एफआईआर कराने के निर्देश दिए थे।

डीईओ से मांगी रिपोर्ट

मप्र बाल संरक्षण आयोग के सदस्य बृजेश चौहान ने कहा कि माध्यमिक शाला बड़वारा में छात्रों की पिटाई की रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारी से मांगी है। जिला शिक्षा अधिकारी को घटना के समय स्कूल में उपस्थित प्रधानाध्यापक एवं शिक्षकों की भूमिका की भी जांच करने कहा है। घटना के समय प्रधानाध्यापक एवं शिक्षक उपस्थित थे या नहीं, उपस्थित रहने के बाद भी ऐसी घटना क्यों हुई, इन्ही सब बिन्दुओं पर रिपोर्ट तलब की है। 
 

कमेंट करें
sf4hd