comScore

सनातन संस्था मामला: जलगांव से गिरफ्तार आरोपियों को 17 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेजा गया

September 09th, 2018 22:01 IST
सनातन संस्था मामला: जलगांव से गिरफ्तार आरोपियों को 17 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेजा गया

डिजिटल डेस्क, मुंबई। नारासोपारा इलाके से हथियारों के बरामदगी मामले में जलगांव से गिरफ्तार दो आरोपियों को रविवार को मुंबई स्थित स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें 17 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने दोनों को जलगांव से गिरफ्तार किया था। कोर्ट में एटीएस ने दावा किया कि आरोपियों के निशाने पर वे लोग थे जो हिंदू धर्म के खिलाफ बोलते थे या काम करते थे। बता दें कि एटीएस ने 10 अगस्त को महाराष्ट्र में पालघर जिले के नालासोपारा इलाक़े में एक घर से आठ देसी बम बरामद किए थे, उसी के सम्बंध में ये गिरफ्तारियां की गई थी।

एटीएस ने जलगांव के साकली इलाके से वासुदेव सूर्यवंशी और विजय लोधी नाम के आरोपियों को गिरफ्तार किया था। एटीएस ने तलाशी के दौरान लोधी के घर से तीन देसी बम बरामद करने का दावा किया है। जिसे एफएसएल जांच के लिए भेज दिया गया है। इसके अलावा एटीएस को एक नंबर प्लेट भी मिला है। अधिकारियों को शक है कि नंबर प्लेट का हत्या के लिए इस्तेमाल गाड़ियों में किया गया होगा। इसकी जांच की जा रही है। कोर्ट में आरोपियों की पेशी के दौरान एटीएस ने कहा कि आरोपियों से मोबाइल के जरिए जुड़े लोगों की जानकारी जुटाई जा रही है। 

एटीएस ने बताया, आरोपियों ने कई ऐसे लोगों की रेकी की थी जो हिंदू धर्म के खिलाफ भाषण देते, लिखते, फिल्में बनातें या नाटकों का मंचन करते थे। एटीएस आरोपियों से उन लोगों के नाम जानने की कोशिश करेगी जिनकी रेकी हुई थी और जो आरोपियों के निशाने पर थे। नालासोपारा इलाके में वैभव राऊत की गिरफ्तारी के बाद से अब तक इस मामले में कुल सात आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

जलगांव से गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ एटीएस पुलिस स्टेशन में विस्फोटकों की बरामदगी और गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में एक्सप्लोसिव एक्ट और यूएपीए कानून की संबंधित धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपियों के पास से हथियार चलाने की ट्रेनिंग देने वाली कुछ सीडी, बम बनाने का तरीका सिखाने वाली किताब, पुणे के सनबर्न फेस्टिवल समेत कुछ अहम शहरों में स्थित जगहों के नक्शे बरामद किए जाने की भी बात कही जा रही है।

कमेंट करें
nLCv7