भोपाल: बम की धमकी वाले ई-मेल से भोपाल के स्कूलों में खलबली

May 14th, 2022

हाईलाइट

  • तलाशी अभियान के दौरान कुछ भी बरामद नहीं हुआ है।

डिजिटल डेस्क, भोपाल। भोपाल के कई स्कूलों को शुक्रवार को फर्जी ई-मेल से धमकी वाले ईमेल मिले, जिससे छात्र और स्कूल प्रबंधन कई घंटों तक दहशत में रहे। पुलिस ने यह जानकारी दी।हालांकि, राज्य पुलिस द्वारा घंटों तलाशी के बाद भी कोई आपत्तिजनक सामग्री नहीं मिली।धमकी भरे ई-मेल प्राप्त करने वाले अधिकांश स्कूल केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अंतर्गत आते हैं, जहां कक्षा 12 के छात्र शुक्रवार को अपनी अंतिम परीक्षा दे रहे थे।

स्कूल के अधिकारियों द्वारा प्राप्त ई-मेल में लिखा था कि तुम्हारे स्कूल में दो शक्तिशाली बम हैं, तुरंत पुलिस को बुलाओ.. यह कोई मजाक नहीं है, दोहराता हूं, यह मजाक नहीं है। सैकड़ों जि़ंदगियां मौत के अधर में लटकी हुई हैं, जल्दी से काम करो, क्योंकि अभी भी समय है वरना सब खत्म हो सकता है। यह मत कहना कि आपको चेतावनी नहीं दी गई थी। अब सब कुछ सिर्फ आप पर निर्भर करता है।

ई-मेल प्राप्त करने के तुरंत बाद, अधिकारियों ने पुलिस को सतर्क किया और तत्काल तलाशी अभियान के लिए अनुरोध किया।

एक स्कूल के प्रिंसिपल ने टीटी नगर पुलिस स्टेशन को लिखा, हमें नियमित अंतराल पर लगभग 50 धमकी भरे ई-मेल प्राप्त हुए, जिसमें कहा गया कि हमारे स्कूल में दो बहुत शक्तिशाली बम हैं। हमारे स्कूल में कक्षा 12 के छात्रों की अंतिम परीक्षा चल रही है, इसलिए आपसे अनुरोध है कि कृपया जल्द से जल्द आवश्यक कार्रवाई करें।

पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए स्कूलों में बम डिटेक्शन और डिस्पोजल स्क्वॉड के साथ तलाशी अभियान शुरू किया। हालांकि कोई आपत्तिजनक सामग्री नहीं मिली।बाद में, पुलिस आयुक्त मकरंद देवस्कर ने मीडिया को बताया कि यह एक नकली बम की धमकी थी और तलाशी अभियान के दौरान कुछ भी बरामद नहीं हुआ है।

देवस्कर ने कहा, साइबर पुलिस स्कूलों को ई-मेल भेजने वाले व्यक्ति की पहचान करने की कोशिश कर रही है। जो कोई भी दहशत पैदा करने में शामिल पाया जाएगा, उसे कानून के अनुसार दंडित किया जाएगा।यह नकली बम की धमकी अप्रैल में बेंगलुरु के कई स्कूलों को मिली धमकी के समान थी।इस महीने की शुरूआत में, एक व्यक्ति ने कथित तौर पर महिला हेल्पलाइन सहित हेल्पलाइन नंबरों पर कम से कम 50 कॉल किए, जिससे भोपाल रेलवे स्टेशन को उड़ाने की धमकी दी गई, जिससे दहशत फैल गई। हालांकि, यह एक धोखा निकला।

 

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.