दैनिक भास्कर हिंदी: तेंदुआ आया था हमला करने और कुत्तों ने भीगी बिल्ली बना दिया !

March 4th, 2019

डिजिटल डेस्क,सतना। तेंदुआ खतरनाक जानवरों की श्रेणी में आता है, जो जानवरों के साथ साथ इंसानों पर भी हमला करने के कारण अक्सर चर्चाओं में रहता है। जंगलों से सटे इलाकों में इनका खतरा हमेशा बना रहता है। अक्सर शिकार की तलाश में ये जंगलों से निकल कर मानव बस्तियों की तरफ निकल आते है और यहीं इनका सामना हो जाता है इंसानों से और बेशक तेंदुआ से ज्यादा खतरा इंसान को ही होता है। मामला रीवा जिले के डेल्ही गांव का है, जहां हमला करने आए  तेंदुआ को कुत्तों ने मिलकर भीगी बिल्ली बना दिया। सूचना पर मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम ने तेंदुआ को बेहोश कर जंगल में छोड़ा है।
भयभीत तेंदुआ 8 घंटे चढ़ा रहा पेड़ पर-
रीवा जिले के डेल्ही गांव में कुत्तों के डर से पेड़ पर चढ़ कर बैठे तेंदुआ के एक बच्चे को अंतत: बेहोश कर व्हाइट टाइगर सफारी की टीम अपने साथ मुकुंदपुर ले गई। बताया गया है कि कुत्तों के झुंड से भयभीत तेंदुआ 8 घंटे तक पेड़ पर ही टंगा रहा। ये गांव बैकुंठपुर से 3 किलोमीटर दूर स्थित है। माना जा रहा है कि तेंदुआ क्योटी के जंगल से भटक कर गांव की तरफ आया,उसे जब कुत्तों ने घेरा तो उसने एक कुत्ते पर हमला बोल दिया। इसके बाद कुत्ते उसके पीछे लग गए।
बेसुध होते ही गिरा जाल में-
उल्लेखनीय है 2 माह पूर्व इसी गांव में एक तेंदुए ने कई ग्रामीणों पर हमला कर दिया था।  तेंदुए के बच्चे को रविवार की सुबह 5 बजे पहली बार गांव में देखा गया। कुत्तों से झड़प के बाद सुबह साढ़े 6 बजे वो पेड़ पर चढ़ गया।  ग्रामीणों की खबर पर पुलिस  के साथ सिरमौर,अतरैला और रीवा रेंज के वन अफसर भी मौके पर पहुंचे। जब किसी भी हालत में तेंदुआ नीचे आने को तैयार नहीं हुआ तो दोपहर 1 बजे के करीब व्हाइट टाइगर सफारी से विशेषज्ञों की टीम बुलाई गई। अंतत: उसे बेहोश किया गया। बेहोश होते ही तेंदुए का बच्चा नीचे लगाए गए जाल पर आ गिरा।