दैनिक भास्कर हिंदी: मराठा आरक्षण : पुणे में हुई हिंसा को लेकर 5 हजार लोगों पर मामला दर्ज

July 31st, 2018

हाईलाइट

  • मराठा क्रांति मोर्चा में किए बंद के बीच हुई हिंसा को लेकर पुलिस ने पांच हजार लोगों पर सामूहिक मामला दर्ज किया है।
  • संदेह जताया जा रहा है कि आंदोलनकारियों में अन्य राज्य के युवकों ने घुसकर पथराव, आगजनी जैसी घटनाओं को अंजाम दिया है।
  • पुणे-नाशिक महामार्ग पर रास्ता रोके जाने के बाद आंदोलन हिंसक हुआ था।

डिजिटल डेस्क, पुणे। मराठा क्रांति मोर्चा द्वारा आरक्षण की मांग को लेकर सोमवार को चाकण में किए बंद के बीच हुई हिंसा को लेकर पुलिस ने पांच हजार लोगों पर सामूहिक मामला दर्ज किया है। इस तरह का संदेह जताया जा रहा है कि आंदोलनकारियों में अन्य राज्य के युवकों ने घुसकर पथराव, आगजनी जैसी घटनाओं को अंजाम दिया है।

बता दें कि मराठा आरक्षण की मांग को लेकर चाकण, खेड़, राजगुरूनगर में भी बंद रखा गया था, जहां सुबह मोर्चा निकाला गया था। पुणे-नाशिक महामार्ग पर रास्ता रोके जाने के बाद आंदोलन हिंसक हुआ था। आंदोलनकारियों ने एसटी बस, पुलिस की गाड़ियां, दमकल विभाग की गाड़ियां और निजी वाहन जलाए थे। हमले में 2 डीवाईएसपी, 2 पुलिस निरीक्षक और 10 पुलिस कर्मी घायल हुए थे। हालात बेकाबू होने के बाद इलाके में धारा 144 लगा दी गई थी। अब सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आंदोलनकारियों को पकड़ा जा रहा है।

शांतिपूर्ण तरीके से हो आंदोलन

भड़की हुई हिंसा को देख सकल मराठा समाज द्वारा स्पष्ट किया गया कि हमारा आंदोलन शांतिपूर्ण माहौल में किया गया था। किसी भी कार्यकर्ता की हिंसा की भूमिका नहीं थी। आंदोलन के बीच किसी खास समूह के लोगों ने घुसकर हिंसा की घटना को अंजाम दिया है। इसलिए पुलिस सीसीटीवी फुटेज देखकर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करे।