comScore

नागपुर में क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए हॉस्टल में जाकर विद्यार्थियों ने लिए अपने दस्तावेज

नागपुर में क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए हॉस्टल में जाकर विद्यार्थियों ने लिए अपने दस्तावेज

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय के लॉ कॉलेज चौक स्थित हॉस्टल में जाकर कुछ विद्यार्थियों ने अपने दस्तावेज ले लिए। इस दौरान पीपीई किट सिर्फ एक विद्यार्थी को दी गई, बाकी दो मुंह पर गमछा लपेट कर अंदर दाखिल हुए। हॉस्टल वार्डन डॉ. श्याम कोरेटी ने छात्र नेताओं पर जान-बूझ कर विद्यार्थियों की जान खतरे में डालने का आरोप लगाया है।

बुरी हालत में दस्तावेज थे
बीते कुछ दिनों से हॉस्टल निवासी विद्यार्थियों में यह चर्चा थी कि हॉस्टल में उनके दस्तावेज असुरक्षित और लावारिस अवस्था में पड़े हैं। विद्यार्थी नेता आशीष फुलझले ने कुछ दिनों पूर्व हॉस्टल में विद्यार्थियों के दस्तावेजों के असुरक्षित होने का मुद्दा उठाया था। उन्होंने इस संबंध में विवि प्रभारी कुलसचिव डॉ.नीरज खटी को निवेदन भी दिया था। बुधवार को फुलझले कुछ विद्यार्थियों के साथ दोबारा डॉ.खटी से मिलने पहुंचे और विद्यार्थियों के दस्तावेज सौंपने का आग्रह करने लगे। कुलसचिव के कहने पर शिष्टमंडल ने मनपा अतिरिक्त आयुक्त राम जोशी से मुलाकात करके विद्यार्थियों को हॉस्टल में दाखिल होकर अपने दस्तावेज लेने की अनुमति मांगी। फुलझले के अनुसार मनपा से अनुमति लेकर वे लोग हॉस्टल पहुंचे, लेकिन यहां पहुंच कर देखा तो यहां पीपीई किट और अन्य जरूरी सुरक्षा उपाय नहीं थे। आखिरकार बड़ी मुश्किल से एक विद्यार्थी को पीपीई किट दी गई। विद्यार्थियों के दस्तावेज बहुत बुरी हालत में इमारत के आखिरी कमरे में रखे हुए थे। विद्यार्थी अपने दस्तावेज लेकर लौट गए।

कमेंट करें
lUYI1