अमेरिकी सरकार पैनल : अमेजन, फेसबुक, गूगल प्रतिस्पर्धा को दबाते हैं

July 21st, 2022

डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। यूएस हाउस ज्यूडिशियरी कमेटी द्वारा जारी किए गए नए आंतरिक दस्तावेजों से पता चला है कि कैसे अमेजन, फेसबुक और गूगल ने अपने उत्पादों का समर्थन किया और अपने प्रतिद्वंद्वियों से प्रतिस्पर्धा को दबाने के लिए अपने प्रभुत्व का दुरुपयोग किया। नए दस्तावेजों में आंतरिक फेसबुक दस्तावेज शामिल हैं, जो दिखाते हैं कि कंपनी खुद को सोशल नेटवर्किं ग बाजार में प्रमुख मानती है और प्रतिस्पर्धी खतरों से खुद को बचाती है।

हाउस ज्यूडिशियरी कमेटी ने मंगलवार को एक बयान में कहा, अन्य नए जारी किए गए दस्तावेजों में गूगल आंतरिक संचार शामिल है जो दर्शाता है कि यह स्मार्टफोन निर्माताओं को गूगल के मोबाइल ऐप के साथ प्रतिस्पर्धा करने वाले उत्पादों या सेवाओं को पेश करने से रोकने के लिए एंड्रॉइड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम पर अपने नियंत्रण का लाभ कैसे उठाता है।

आंतरिक अमेजन दस्तावेज प्रदर्शित करते हैं कि अमेजन ई-कॉमर्स पर अपने प्रभुत्व का दुरुपयोग कैसे करता है, थर्ड पार्टी के विक्रेताओं को अमेजेन से अन्य सेवाओं को खरीदने जैसे कि पूर्ति और वितरणके लिए मजबूर करता है। हाउस एंटीट्रस्ट उपसमिति की वाइस चेयर, प्रमिला जयपाल (डी-डब्ल्यूए) ने कहा, अमेजन और फेसबुक से लेकर गूगल और एप्पल तक, इसमें कोई संदेह नहीं है कि ये अनियमित तकनीकी दिग्गज देखभाल करने के लिए बहुत बड़े हो गए हैं और लोगों को कभी भी मुनाफे पर रखने के लिए बहुत शक्तिशाली हो गए हैं।

यह रिपोर्ट स्पष्ट है कि यह कांग्रेस के लिए उपभोक्ताओं की रक्षा करने और प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देने के लिए कार्य करने का समय है। माई एंडिंग प्लेटफॉर्म एकाधिकार अधिनियम बिग टेक की शक्ति पर लगाम लगाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम होगा। रिपोर्ट तब आई है जब अमेरिकी सांसदों ने साल के अंत तक मजबूत अविश्वास कानून को मंजूरी देने पर जोर दिया है।

450-पेज की रिपोर्ट में एक द्विदलीय जांच के निष्कर्षो और सिफारिशों का विवरण दिया गया है जिसमें सात कांग्रेस की सुनवाई, लगभग 1.3 मिलियन आंतरिक दस्तावेजों का उत्पादन और जांच की गई फर्मो से संचार और 38 एंटीट्रस्ट विशेषज्ञों से सबमिशन शामिल हैं।

सोर्स: आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.