डिजिटल एड्रैस सिटी इंदौर: Pataa ऐप बनाएगा इंदौर को भारत की पहली डिजिटल एड्रैस सिटी 

January 28th, 2022

डिजिटल भास्कर, इंदौर। भारत को हर साल अव्यवस्थित एड्रेसिंग सिस्टम के कारण लगभग 75,000 करोड़ रुपए का नुक़सान उठाना पड़ता है। इस समस्या को हल करने का बीड़ा उठाया है इंदौर में ही बनाए गए Pataa ऐप ने। यह हमारे लिए गर्व की बात है, कि इस मुहिम का आगाज़ इंदौर को देश की पहली डिजिटल एड्रैस सिटी बना कर किया जा रहा है। 

Pataa भारत में निर्मित एक ऐसा फ्री मोबाईल ऐप है जो आपके लम्बे एवं जटिल एड्रैस को एक छोटे डिजिटल एड्रैस कोड मे कन्वर्ट कर के, इ-कॉमर्स, कोरियर सर्विस, डिलिवरी करने वाले एवं अन्य विजिटर्स को,सटीक लोकेशन पर पहुंचने मे मदद करेगा। इस ऐप से समय एवं लागत में भारी बचत की जा सकेगी और अपना लम्बा ऐड्रेस समझाने व शेयर करने की परेशानी से छुटकारा मिलेगा। 

1)    पता के लॉन्च के पीछे क्या उद्देश्य था?
यह एक अनूठा ऐपहै। इंदौर स्टार्ट अप, Pataa Navigation के रजत और मोहित जैन और उनकी टीम नेबनाया है। अपनी देश-विदेश की यात्राओं के दौरान आई लोकेशन ढूँढने की परेशानी के बाद उन्होंने Pataa के माध्यम से इसका हल निकाला। गहन रिसर्च के बाद Pataa एप में ऐसे फीचर्स को शामिल किया गया है, जो सटीक एड्रैस तक पहुँचने में बहुत उपयोगी हैं। 

2)    लोग पता का उपयोग सटीक लोकैशन पर पहुँचने के लिए कैसे कर सकते हैं?
Pataa ऐप द्वारा आप 3 मीटर  की एक्यूरेसी तक अपने घर के दरवाज़े पर पिन गिरा कर अपने लंबे एड्रेस को एक छोटे पर्सनल कोड में तब्दील कर सकते हैं, जैसे  KUMAR100, SINGH221, और आसानी से शेयर कर सकते हैं, जिस से विज़िटर बिना भटके,ठीक आपके दरवाज़े पर पहुंचसकते हैं। साथ ही पास के लैंडमार्क से अपने एड्रेस तक का सबसे आसान रास्ता अपनी आवाज़ में रिकॉर्ड कर सकते हैं, ताकि बार-बार अपना एड्रेस कुरियर और डिलीवरी वालों को समझाना ना पड़े।

Pataa ऐप का एक और लाभकारी फीचर है, जो लोगों को आपकी बिल्डिंग पहचानने में मदद करता है, वो है फोटोएड करना। आप इसमें अपने घर या ऑफिस की 1-3 फोटोज़ डाल सकते हैं, जो आपके विज़िटर को सीधे आपके दरवाज़े तक पहुंचाएंगी। अपने परिवार के सभी सदस्यों और ऑफ़िस कर्मचारियों के लिए आप एक ही Pataa के कईं एक्स्टेन्शन बना सकते हैं और आसानी से शेयर कर सकते हैं। 

अक्सर देखा गया है कि बड़ी टाउनशिप्स और बिल्डिंग्स में सिक्युरिटी और पार्किंग के सख्त निर्देश होते हैं। आप Pataaऐप के अतिरिक्त निर्देश सेक्शन में यह जानकारी जोड़ सकते हैं, जिस से आपके विज़िटर को पहले से ही यह विवरण मिल जाता है, और सभी के लिए समय की बचत होती है। इसके लाइव ट्रैकिंग फीचर से आप देख सकते हैं कि विज़िटर कहां तक पहुंचे हैं। यही नहीं, उनकी सहूलियत के लिए आप उन रास्तों को डिसेबल कर सकते हैं जो किसी कारणवश फिलहाल उपयोग में नहीं हैं।

3)    पता की भविष्य में निवेश की क्या योजना है? 
Pataa अपने पहले दौर की फंडिंग में है और उसने 2.5 मिलियन डॉलर जुटाए हैं। यह अपने रणनीतिक पार्टनर्स के साथ 10 मिलियन डॉलर जुटाने की प्रक्रिया में है। हमारा लक्ष्य आने वाले समय में उत्पाद को वैश्विक बनाना है। 

4)    पता अपने प्रतिद्वंदीयों से अलग कैसे है?
भारत के अनुरूप Pataa को लगातार अपडेट किया जा रहा है। अब तक 5 नई भाषाओं को जोड़ा जा रहा है और ऐप में 20 क्षेत्रीय भाषाओं को जोड़ा जाएगा। विस्तार की योजना में बहुभाषी समर्थन हमारे प्रयासों में से एक है। ड्रोन डिलीवरी पाइपलाइन में है। हम एड्रेस पैड लेकर आ रहे हैं और इससे जुड़ी संबंधित कंपनियों के साथ बातचीत कर रहे हैं।एप के फाउन्डरज़ ने पूरी कोशिश की है कि इसके सभी फीचर्स आम आदमी आसानी से यूज़ कर सके। ऐप में जानकारी भरने की प्रतिक्रिया भी एकदम सिम्पल है।इन्ही सब कारणों से Pataa अपने प्रतिद्वंदीयों से अलग है। 

5)    पता की अनूठी विशेषता क्या है?
आपका निजी Pataa डिजिटल एड्रेस कोड, आजीवन आपके साथ रहेगा, चाहे आप घर, एरिया या शहर बदलें। जिओ-टैगिंग, सटीक नेवीगेशन एवं डिजिटल एड्रैस कोड के लिए Pataa एक बहुत लाभकारीऐप है।