comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

IRCTC: रद्द हुई ट्रेनें, लेकिन खुद कैंसिल ना करें टिकट, नहीं तो हो सकता है ये नुकसान

IRCTC: रद्द हुई ट्रेनें, लेकिन खुद कैंसिल ना करें टिकट, नहीं तो हो सकता है ये नुकसान

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोनावायरस का कहर पूरी दुनिया में दिखाई दे रहा है। वहीं देश में 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है। जिससे परिवहन के क्षेत्र में भी आमजन को मिलने वाली सभी सुविधाएं बंद हो गई हैं। इनमें भारतीय रेलवे ने 14 अप्रैल तक सभी यात्री सेवाओं को पूरी तरह से बंद कर दिया है। ऐसे में ऐसे यात्रियों की चिंता बढ़ गई है, जिन्होंने लॉकडाउन के पहले अपनी यात्रा के लिए टिकट पहले ही बुक ​करा ली थी। ऐसे यात्रियों के लिए रेलवे ने एक अच्छी खबर दी है। 

भारतीय रेलवे का कहना है कि जिन यात्रियों के टिकट पहले से बुक हैं, उन्हें इस स्थिति में रिफंड को लेकर चिंता की जरूरत नहीं है। दरअसल, इन लोगों को रिफंड के लिए टिकट काउंटर पर नहीं जाना होगा और उनका पैसा भी रिफंड होगा। ऐसे में ऐसे लोग फिलहाल बिना किसी चिंता के अपने घर में सुरक्षित रह सकते हैं।

Google पर कोरोनावायरस से जुड़ी जानकारी कर रहें हैं सर्च? तो सावधान

ना करें ये गलती
रेलवे के अनुसार ऐसे यात्रियों की ई-टिकट अपने आप रद्द हो जाएंगी और सारा रिफंड अपने आप उस अकाउंट में पहुंच जाएगा, जिससे टिकट की बुकिंग की गई थी। हालांकि यहां ध्यान देने की जरूरत यह कि यात्री खुद से अपने टिकट कैंसिल ना करें। 

क्यों ना करें कैंसिल
आईआरसीटीसी प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह का कहना है कि यदि यात्री अपना ई-टिकट कैंसल करते हैं, तो ऐसे में उनकी रिफंड की आधी रकम कट सकती है। ऐसे में यह ध्यान रखने वाली बात है कि यात्री अपना टिकट खुद कैंसिल ना करें।

अमेजन और फ्लिपकार्ट सहित इन ई- कॉमर्स कंपनियों ने यह सेवाएं की बंद

ऐसे मिलेगा रिफंड
भारतीय रेलवे का कहना है कि देशभर में लोकडाउन के चलते सभी रेल गाड़ियों को रद्द कर दिया गया है। ऐसे में यदि यात्री अपनी निर्धारित तिथि में ट्रेन के रद्य होने की स्थिति में यात्रा नहीं कर सकेंगे तो उनका टिकट खुद वा खुद कैंसिल हो जाएगा। इसी के साथ यात्रियों को टिकट का पूरा रिफंड भी अपने आप वापस मिल जाएगा।

कमेंट करें
pPbTI
कमेंट पढ़े
Purshotam Ramchandani March 27th, 2020 10:12 IST

counter se Li Gai ticket Kaise cancel Hogi aur uska Paisa kaise kab Milega Kaise milega

KUNAL KUMAR PUJHAR March 26th, 2020 19:23 IST

Lekin jo counter me kaish dekar tikat liya hai uska Kya upay hai wo rifuond kese lega

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।