comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

रॉयल एनफील्ड कॉन्टिनेंटल GT 650 और इंटरसैप्टर 650 टेस्टिंग के दौरान हुई स्पॉट

July 05th, 2018 10:37 IST
रॉयल एनफील्ड कॉन्टिनेंटल GT 650 और इंटरसैप्टर 650 टेस्टिंग के दौरान हुई स्पॉट

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रॉयल एनफील्ड इंडिया और दुनियाभर के सामने अपनी दो नई और कंपनी की बनाई सबसे दमदार बाइक Royal Enfield Continental GT 650 और  Interceptor 650 लॉन्च करने वाली है। हाल में इन दोनों बाइक्स की टेस्टिंग के दौरान कुछ फोटोज कैमरे में कैद की गई हैं। Royal Enfield ने इंडियन ऑटो मार्केट बाजार के 2-व्हीलर सैगमेंट में धाक जमा रखी है और अब कंपनी जल्द ही अपनी दो नई मोटरसाइकल Interceptor 650 और Continental GT 650 यूरोपीय बाजार में उतारने की तैयारियां पूरी कर ली हैं। कंपनी ने इन दोनों मोटरसाइकल को पहले यूरोप में लॉन्च करने का प्लान बनाया है। इंटरसेप्टर 650 की कीमत 10,000 ऑस्ट्रेलियन डॉलर इंडियन करेंसी के मुताबिक 5 लाख रुपये रखी है, वहीं इसके कॉन्टिनेंटल GT की कीमत 10,400 ऑस्ट्रेलियन डॉलर 5.2 लाख रुपये रखी गई है। 

ये भी पढ़ें : JAWA MOTORCYCLES के रीलॉन्च को आनंद महिंद्रा ने ये कहा

रॉयल एनफील्ड ने इंटरसैप्टर 650 और कॉन्टिनेंटल GT 650 में समान 648cc पावर वाला पैरेलल-ट्विन, एयर-कूल्ड इंजन लगाया गया है। यह इंजन 7100 rpm पर 47 bhp पावर और 4000 rpm पर 52 Nm पीक टॉर्क जनरेट करने की क्षमता रखता है। इस इंजन को नए 6-स्पीड गियरबॉक्स से लैस किया गया है। बाइक्स में एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम दिया गया है और यह कंपनी की पहली बाइक है जिसका इंजन 535cc से ज्यादा दमदार है। रॉयल एनफील्ड ने इन दोनों मोटरसाइकल की क्वॉलिटी, फिटिंग और फिनिशिंग को लेकर आश्वस्त किया है।

ये भी पढ़ें :  यूके में स्पॉट हुआ Ducati Panigale V4 का स्पेशल एडीशन

royal enfield 650

ये भी पढ़ें : ये Yamaha RX100 आपको अपना फैन बना लेगी

दोनों ही मोटरसाइकल का उत्पादन तमिलनाडु के चेन्नई स्थित रॉयल एनफील्ड प्लांट में किया जाएगा। अनुमान है कि भारत में इन दोनों रॉयल एनफील्ड मोटरसाइकल की कीमत 4 लाख रुपए से कम होगी जो पहले से ही भारत में बाइक का शौक रखने वाले लोगों की नजर में चढ़ी हुई है। दोनों मोटरसाइकल को मॉडर्न क्लासिक डिजाइन दिया गया है।  जिसमें इंटरसैप्टर 650 को रोड्सटर और कॉन्टिनेंटल GT 650 को कैफे रेसर डिजाइन में बनाया है। कंपनी ने दोनों बाइक्स को समान डुअल-क्रेडल, ट्यूबलर स्टील फ्रेम पर बनाया है।

कमेंट करें
Ev648
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।