comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Financial year: बैंक, GST और PF समेत आज से बदल गए इन 10 चीजों के नियम, जानें इनके बारे में

Financial year: बैंक, GST और PF समेत आज से बदल गए इन 10 चीजों के नियम, जानें इनके बारे में

हाईलाइट

  • आपकी रोजमर्रा की जिंदगी पर पड़ेगा सीधा असर
  • बैंकों का विलय और नया इनकम टैक्स नियम
  • मोबाइल महंगा हुआ, डाटा के बढ़ सकते हैं रेट

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देशभर में कोरोनावायरस से लड़ने के लिए इन दिनों लॉकडाउन की स्थिति है, जो कि 14 अप्रैल तक लॉकडाउन जारी रहेगा। वहीं आज 1 अप्रैल से नया वित्त वर्ष शुरू हो गया है। इसी के साथ बदल गई हैं आपकी जिंदगी से जुड़ी कई अहम चीजें। जिसका असर आपकी रोजमर्रा की जिंदगी पर होगा। इनमें जीएसटी टैक्स से लेकर, पीएम, गैस सिलेंडर और बैंक समेत बैंकों के मर्जर तक कई चीजें शामिल हैं। 

आज से शुरू हुए नए वित्त वर्ष में (2020-21) में नया इनकम टैक्स सिस्टम भी लागू हो गया है। वहीं कई टैक्स हटा दिए गए हैं। देशभर में आज से BS6 मानक वाला पेट्रोल और डीजल भी मिलने लगेगा। आइए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से जानते हैं...

ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन परमिट की वैधता 30 जून तक बढ़ाई

बैंक का विलय
1 अप्रैल यानी कि आज से देश के 10 सरकारी बैंकों का विलय कर चार बड़े बैंक बनाए जाएंगे। यह देश के वित्तीय क्षेत्र का सबसे बड़ा विलय होगा। इसके बाद आपके बैंक खाते के साथ ही बैंकों के IFSC कोड्स भी बदल सकते हैं। इसकी सूचना आपको बैंको द्वारा जी जाएगी। वहीं आपको कुछ बदलावों की जानकारी अपने बिलों/ किस्तों को काटने वाले बैंकों को देनी होगी। 

पेंशन
आज से EPS पेंशनर्स को ज्यादा पेंशन मिलेगी। सरकार ने EPS नियमों में बदलाव किए हैं जिसके बाद 26 सितंबर 2018 के बाद रिटायर हुए लोगों को 1 अप्रैल 2020 से ज्यादा पेंशन मिलने लगेगी। इसके अलावा ईपीएफ स्‍कीम के तहत पीएफ खाताधारकों के लिए पेंशन के कम्यूटेशन यानी एकमुश्त आंशिक निकासी का प्रावधान भी अमल में आ गया है। 

जीएसटी रिटर्न फॉर्म
जीएसटी परिषद की 31वीं बैठक में एक अप्रैल से नया जीएसटी रिटर्न फॉर्म लाने पर फैसला हुआ था। नया फॉर्म काफी सरल होगा और रिटर्न भरने में आसानी होगी।

EMI बाउंस होने की स्थिति में आपके CIBIL पर क्या होगा असर ?

इनकम टैक्स
आज से नए आयकर प्रस्ताव इनकम टैक्स स्लैब्स लागू होंगे। जिससे आयकर दाताओं को अलग-अलग स्लैब्स चुनने की आजादी रहेगी। यह पूरी तरह से वैकल्पिक व्यवस्था है। ऐसे में आप पुराने तरीके से टैक्स दे सकते हैं अथवा नया तरीका भी चुन सकते हैं।

लोन संबंधित
1 अप्रैल, 2020 से छोटे और मझोले कारोबारियों को नए मानकों पर कर्ज मिलेगा। कारोबारियों को परिवर्तनशील ब्याज दरों पर दिए जाने वाले सभी नए लोन को 1 अप्रैल से रेपो जैसे बाहरी मानकों से जोड़ा जाएगा। इससे ब्याज दर में कमी आएगी। 

पैन कार्ड
नए वित्त वर्ष के साथ ही पैन को लेकर भी एक नया नियम लागू हो जाएगा। यह ​कि अब से बिना पैन कार्ड के विदेश यात्रा करना आपको महंगा पड़ सकता है। बता दें कि बीते दिनों इसकी जानकारी दी गई है। जिसके अनुसार यदि कोई विदेश यात्रा करता है और उसके पास पैन कार्ड नहीं है तो उसे दोगुना टैक्स चुकाना होगा।

नए वाहन नियम
एक अप्रैल से देश में सिर्फ BS-6 मानक वाले वाहन ही बिकेंगे। हालांकि, कोरोना संकट के चलते सुप्रीम कोर्ट ने BS-4 वाहनों का रजिस्ट्रेशन अप्रैल में सशर्त 10 दिन करने की अनुमति दी है। बता दें कि ऑटो कंपनियों ने इसे लेकर अपील की थी कि BS-4 वाहनों को बेचने की अनुमित दी जाए। 

Mahindra बनाएगी फेस कवच, Maruti बना रही वेंटिलेटर

BS6 पेट्रोल और डीजल
1 अप्रैल से देश में BS6 मानक वाला पेट्रोल और डीजल मिलना शुरु हो गया है। बता दें कि IOC ने इसकी शुरुआत पहले ही कर दी दी थी, लेकिन इसकी औपचारिक शुरुआत आज से होगी। हालांकि, इनकी कीमत को लेकर फिलहाल ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। 

दवाइयों से जुड़ा नियम
सरकार ने 1 अप्रैल से सभी तरह के मेडिकल डिवाइसेज को ड्रग घोषित करने का फैसला किया है। नए वित्त वर्ष से ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक की धारा 3 के तहत इंसानों और जानवरों पर इस्तेमाल होने वाले उपकरणों को औषधि की श्रेणी में रखा जाएगा।

महंगा मोबाइल और डाटा
दूरसंचार कंपनियों ने 1 अप्रैल से मोबाइल डाटा के लिए शुल्क बढ़ाकर न्यूनतम 35 रुपए प्रति जीबी की दर तय करने की मांग की है। वहीं मोबाइल कीमतों पर नई जीएसटी दरें लागू होंगी। आज से मोबाइल पर 12 फीसदी की जगह 18 फीसदी की दर से टैक्स लगेगा। ऐसे में आपको मोबाइल खरीदने के लिए अधिक पैसे खर्च करने पड़ेंगे।

कमेंट करें
TfoRY
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।