दैनिक भास्कर हिंदी: अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका, विकास दर 8.2 से 7.1 पर पहुंची

December 1st, 2018

हाईलाइट

  • देश के ग्रोथ रेट में 1.1 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।
  • सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक दूसरी तिमाही में ग्रोथ रेट घटकर 7.1 पर आ गई है।
  • गिरावट के बावजूद भारत चीन को पछाड़कर दुनिया की सबसे बड़ी बढ़ती इकोनॉमी है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की विकास दर में 1.1 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2018-19 की दूसरी तिमाही (जुलाई से सितंबर) में ग्रोथ रेट घटकर 7.1 पर आ गई है। जबकि पहली तिमाही में यह 8.2 फीसदी थी। हालांकि गिरावट के बावजूद भारत, चीन को पछाड़कर दुनिया की सबसे बड़ी बढ़ती इकोनॉमी बन गया है।

आंकड़ों के मुताबिक 2017-18 के दूसरी तिमाही में जीडीपी 31.72 लाख करोड़ रुपए थी। वहीं 2018-19 की दूसरी तिमाही में जीडीपी 33.98 लाख करोड़ रुपए रही। आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल की दूसरी तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत रही थी। वहीं इस साल की दूसरी तिमाही में यही आंकड़ा 7.1 प्रतिशत है। ऐसे में पिछले साल की तुलना में जीडीपी की वृद्धि दर में बढ़ोतरी देखने को मिली है।

आंकड़ों के मुताबिक आठ कोर इंडस्ट्रीज का कंबाइंड इंडेक्स अक्टूबर 2018 में 134.8 था। यह अक्टूबर 2017 के इंडेक्स की तुलना में 4.8 प्रतिशत अधिक था। अक्टूबर 2017 में यह दर 5 प्रतिशत रही थी। अप्रैल से अक्टूबर 2018-19 के दौरान आठ कोर इंडस्ट्रीज का कंबाइंड इंडेक्स में 5.4 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई। इन आठ कोर इंडस्ट्रीज में कोयला, कच्चा तेल, नेचुरल गैस, रिफाइनरी, फर्टिलाइजर, स्टील, सीमेंट और बिजली जैसे इंडस्ट्रीज शामिल हैं।

आंकड़ों के मुताबिक दूसरी तिमाही में कृषि क्षेत्र में ग्रोथ रेट 3.8 प्रतिशत रही। पिछले साल की तुलना में इसमें 1.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। वहीं मैन्यूफेक्चरिंग सेक्टर में भी 7.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। माइनिंग सेक्टर के वृद्धि दर में 2.4 प्रतिशत की कमी आई है। निर्माण क्षेत्र में 7.8 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

इकोनॉमिक एक्सपर्ट के मुताबिक इस गिरावट की मुख्य वजह डॉलर के मुकाबले रुपए का कमजोर होना है। एक्सपर्ट के मुताबिक सरकार के यह आंकड़ें उम्मीद से कम हैं और चौंकाने वाले हैं। रीजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अपने रिपोर्ट में कहा था कि दूसरे तिमाही में ग्रोथ रेट 7.4 प्रतिशत रह सकता है। वहीं रॉयटर्स ने भी अपने रिपोर्ट में इसे 7.4 प्रतिशत रहने की उम्मीद जताई थी। हालांकि इन सभी के बावजूद भारत की विकास दर दुनिया में सबसे ज्यादा रही है। भारत के 7.1 प्रतिशत के मुकाबले, चीन की ग्रोथ रेट 6.5 प्रतिशत रही है।

 

 

खबरें और भी हैं...