दमोह: मौत पर जीत हासिल नहीं कर पाया प्रशासन

February 28th, 2022

 डिजिटल डेस्क,  दमोह। जिले के पटेरा ब्लॉक के बरखेड़ा बेस गांव में रविवार की दोपहर करीब 11.30 बजे उस समय हड़कंप मच गया, जब खुले पड़े बोर के पास खेल रहा एक बच्चा बोरवेल के गड्ढे में गिर गया। देखते ही देखते गांव में भीड़ लग गई और ग्रामीणों ने पहले अपने स्तर पर बच्चे को निकालने का प्रयास किया। साथ ही प्रशासन को इसकी सूचना दी। प्रशासनिक टीम ने भी बिना कोई देरी किए इमरजेंसी टीम रवाना की और दोपहर 1 बजे से ऑपरेशन  रेस्क्यू शुरू हुआ। एसडीईआरएफ ने पहला स्टेटमेंट देते हुए बताया कि करीब 30 फीट गहरे इस बोरवेल के बीच यानि करीब 14 से 15 फीट पर बच्चा फंसा हुआ है। इस दौरान प्रिंस 3 वर्ष की भी सांसे चल रही थी। जिसे बचाने के लिए पहले तो रस्सी, चेन आदि के प्रयास हुए, लेकिन इसमें सफलता न दिखते ही तत्काल ही मशीनों के माध्यम से बोरवेल के बाजू से गड्डा कराना शुरू किया गया। इस करीब 20 फीट गहरा गड्ढा होने के बाद टीम मेंबर्स द्वारा  ड्रिलिंग शुरू की गई। जो कि बच्चे के नजदीक ही की जा रही थी। दिन भर इसी तरह रेस्क्यू ऑपरेशन चलता रहा । जिस पर सभी की निगाहे टिकी रही। शाम करीब 5 बजे के बाद प्रिंस की ओर से किसी भी तरह की हरकत नहीं हो रही थी। ऐसे में परिजनों की टेंशन बढ़ गई थी। जबकि रेस्क्यू की स्पीड बढ़ा दी गई थी। शाम करीब 7 बजे प्रिंस को रेस्क्यू टीम द्वारा बोरवेल से बाहर निकाला। जो कि अचेत हो चुका था। मौके पर मौजूद चिकित्सा दल ने बच्चे को ऑक्सीजन आदि देने का प्रयास किया, लेकिन नाकाफी साबित हुआ। इस दौरान मौके पर मौजूद कलेक्टर एसकृष्ण चैतन्य, एसपी डीआर तेनिवार ने बिना देरी किए बच्चे को अस्पताल पहुंचाया, लेकिन यहां डॉक्टर्स ने प्रिंस को मृत घोषित कर दिया। इसकी खबर लगते ही गांव में गम का माहौल हो गया। जबकि रेस्क्यू टीम भी निराश नजर आई।

खबरें और भी हैं...