• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Black marketing of face masks and sanitizers in Balaghat - Administration and Health Department raids

दैनिक भास्कर हिंदी: बालाघाट में  फेस मास्क ओर सेनिटाईजर की कालाबाजारी - प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का छापा

March 16th, 2020

डिजिटल डेस्क बालाघाट। नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) ने लोगों को भयाक्रांत कर दिया है। भारत में इस बीमारी के दस्तक देने के बाद कई लोग इस लाईलाज बीमारी की चपेट है, जबकि दो लोगों की इससे मौत भी हो गई है। देश में बीमारी के बढ़ते प्रभाव के बाद इस बीमारी को राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दिया गया है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग इससे बचाव को लेकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास कर रहा है। दूसरी ओर बीमारी से बचाव के लिए प्रमुख रूप से उपयोग किये जाने वाले फेस मास्क और सेनिटाईजर की कालाबाजारी भी शुरू हो गई। दवा दुकानदारों ने इसका साल्टेज बताकर इसकी कालाबाजारी करना प्रारंभ कर दिया है और फेस मास्क एवं सेनिटाईजर को निर्धारित दर से भी ज्यादा बेचने का काम किया जा रहा है। जिसकी शिकायत जिला प्रशासन तक भी पहुंची है। जिसके बाद प्रशासन ने इस मामले में दवा विक्रेताओं को निर्देश जारी किये है। जारी निर्देश में कहा गया है कि फेस मास्क एवं हेंड सेनिटाइजर अधिक दाम पर विक्रय करने पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी।
भारत सरकार द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए मास्क एवं हैंड सेनीटाइजर को आवश्यक वस्तुओं की सूची में शामिल किया गया है। कलेक्टर दीपक आर्य ने जिले के सभी औषधि विक्रेताओं को निर्देशित किया है कि वे जिले में मास्क एवं हैंड सेनीटाइजर निर्धारित दाम पर ही बेचे। इन सामग्रियों की अधिक दाम पर बिक्री किए जाने पर जिम्मेदार औषधि विक्रेताओं के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही की चेतावनी दी है।
बालाघाट में दवा विक्रेताओं द्वारा फेस मास्क और सेनिटाईजर की कालाबाजारी की खबरें और शिकायत के बाद कलेक्टर दिपक आर्य के निर्देश पर प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अमले ने गौली मोहल्ला स्थित ओम सर्जिकल में कार्यवाही करते हुए यहां से 75 फेस मास्क बरामद किये है। वहीं इस मामले में शिकायतकर्ता द्वारा यहां से महंगे दाम पर खरीदे गये फेस मास्क को भी बरामद किया है।
फेस मास्क के निर्धारित दाम से अधिक दाम में बेचे जाने की शिकायत मिलने के बाद कलेक्टर दिपक आर्य के निर्देश पर एसडीएम के.सी. बोपचे, तहसीलदार रामबाबु देवांगन, डॉ. परेश उपलप के साथ टीम ने यहां निर्धारित से अधिक दाम में फेस मास्क बेचे जाने को लेकर कार्यवाही की और दुकान में रखे फेस मास्क को बरामद कर लिया है। डॉ. परेश उपलप ने बताया कि दुकान और शिकायतकर्ता से फेस मास्क को बरामद कर पंचनामा बनाया गया है। दूसरी ओर दुकानदार का कहना है कि शिकायतकर्ता को दिया गया मास्क उसके द्वारा नहीं बेचा गया है। बहरहाल मामले की जांच के बाद ही यह साफ हो पायेगा कि संबंधित दवा दुकानदार द्वारा फेस मास्क की कालाबाजारी की जा रही थी कि नही। इस दौरान कोतवाली का पुलिस अमला भी मौजूद था।
फेस मास्क और सेनिटाईजर की बताई जा रही कमी
दवा विक्रेताओं ने बताया कि कोरोना वायरस के बाद फेस मास्क और सेनिटाईजर की मांग तेजी से बढ़ी है, जिसकी मांग के अनुरूप फेस मास्क और सेनिटाईजर की सप्लाई नहीं होने से कमी बनी हुई है। वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि मांग की कमी बताकर फेस मास्क और सेनिटाईजर की कालाबाजारी करने वाले दुकानदारों के स्टॉकों की जांच की जायेगी।