दैनिक भास्कर हिंदी: सिवनी में ब्लैकलिस्टेड, कटनी में तिरूपति कार्गों को मिला अभयदान - भोपाल में पांच माह से धूल खा रही कार्यवाही की फाइल

October 7th, 2020

 डिजिटल डेस्क कटनी । सिवनी में लापरवाही पाए जाने पर जबलपुर के जिस ट्रांसपोर्ट कंपनी तिरुपति कार्गों को दस वर्ष के लिए ब्लैकलिस्टेड किया गया है। उससे बड़ी लापरवाही पर भोपाल के दूसरे विभाग का इसी कंपनी को अभयदान मिला हुआ है। दरअसल रबी विपणन वर्ष 2020-21 में उपार्जित गेहूं के परिवहन में तिरुपति कार्गो की भी बड़ी लापरवाही कटनी जिले में आई थी। समय पर परिवहन नहीं होने से कई जगहों पर गेंहू भीगने के बाद कलेक्टर ने विपणन संघ के प्रबंधक संचालक को एक पत्र भेजा था। जिसमें  निर्धारित अवधि के बाद भी 11 हजार 680 एमटी गेहूं का परिवहन नहीं किये जाने पर 54 लाख 7 हजार 800 रुपये की पेनाल्टी अधिरोपित कर संविदा समाप्त करने और आगामी 10 वर्षों के लिये काली सूची में डालने का प्रस्ताव करीब पांच माह पहले भेजा गया था। जिसमें अभी तक न तो पेनाल्टी की वसूली हो सकी है और न ही ब्लेक लिस्ट की कार्यवाही हुई है। इस संबंध में कलेक्टर शशि भूषण सिंह से भी  उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो वे मीटिंग में रहे। जिससे उनका पक्ष नहीं आया।
यह रहा पूरा मामला
गेंहू के परिवहन में कलेक्टर ने तीन ट्रांसपोर्ट कंपनी की लापरवाही पाई थी। बार-बार नोटिस देने के बाद भी जब परिवहन में ट्रांसपोर्टरों ने भर्रेशाही बरती तो कलेक्टर ने तीनों ट्रांसपोर्टर पर 80 लाख रुपए की पैनाल्टी लगाई। इसमें तिरुपति कार्गो की बड़ी लापरवाही पाने पर उसे ब्लेक लिस्टेड करने का प्रस्ताव भेजा। इसी तरह से मे. राहुल सलूजा परिवहनकर्ता पर निर्धारित समयावधि के बाद भी 8 हजार 566 मीट्रिक टन गेहूं का परिवहन नहीं कर पाने पर 26 लाख 26 हजार 800 रुपये की पेनाल्टी  तीसरे परिवहनकर्ता डीसी चांदवानी कटनी के विरुद्ध  85 हजार 400 रुपये की पेनाल्टी अधिरोपित की थी। यहां पर तो विपणन संघ और कलेक्टर ने सख्ती बरती, लेकिन भोपाल जाने के बाद ही कार्यवाही की फाइल में धूल की परत चढ़ गई। लॉकडाउन में बरती गई लापरवाही पर त्वरित कार्यवाही करते हुए एमडी ने
सख्ती बरती है।
 

खबरें और भी हैं...