दैनिक भास्कर हिंदी: भाई ने ही किया था बहन से बलात्कार, फिर चाकू से कर दी थी हत्या

July 5th, 2018

डिजिटल डेस्क,वारासिवनी/बालाघाट। पुलिस ने यहां सगे भाई को अपनी बहन के साथ दुराचार कर उसकी हत्या करने तथा साक्ष्य छुपाने के मामले मे गिरफ्तार किया है। विगत मई माह में खैरलांजी क्षेत्र में एक युवती का शव बरामद करने के बाद पुलिस ने जांच उपरांत गुत्थी सुलझाते हुए आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

पत्रकार वार्ता में पुलिस ने बताया कि खैरलांजी पुलिस ने बहन के साथ बलात्कार के आरोपी को उसकी हत्या कर सबूत मिटाने के आरोप में गिरफ्त में लिया है। आरोपी रविन्द्र पिता संतोष बनोटे उम्र 24 वर्ष निवासी खैरी गोसाईटोला खैरलांजी को न्यायालय में पेश किया गया जहां से पुलिस ने पूछताछ के लिए रिमाण्ड लिया है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आकाश भूरिया ने वारासिवनी पुलिस थाना में पत्रकारवार्ता के दौरान मामले का खुलासा करते हुए अवगत कराया की गत 4 मई 2018 को नाबालिग मृतिका के पिता संतोष बनोटे पिता सदाराम बनोटे निवासी ग्राम खैरी थाना खैरलांजी में इस आशय की रिपोर्ट दर्ज कराई थी की उनकी नाबालिग लड़की 1 मई 2018 से बिना बताए घर से चली गई है। नाबालिग लड़की को कोई अज्ञात व्यक्ति बहला फुसलाकर ले गया है।

गला घोंटने से हुई थी मौत
इस पर पुलिस ने अज्ञात अपराधी के विरूद्ध धारा 363 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया। विवेचना के दौरान 7 मई 2018 को नाबालिग अपहता का शव गांव के डब्बा तालाब के पास झाड़ियों में बरामद हुआ। शव का पोस्टमार्टम कराया गया, जिसमें पीएम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण गला घोंटने से बताया गया। इसके आधार पर धारा 302, 201 भादवि बढ़ाई गई मृतिका की बैजाईनल स्लाईड प्रिजर्व कर परीक्षण हेतु RFSL जबलपुर भेजी गई। जिसकी परीक्षण रिपोर्ट प्राप्त होने पर उसमें मानव शुक्राणु पाए जाने पर प्रकरण में धारा 376 एफ  भादवि 5 एन/6 पाक्सों एक्ट बढ़ाई गई।

गठित की गई थी टीम
वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के निर्देश पर थाना प्रभारी खैरलांजी तथा थाना प्रभारी वारासिवनी की टीम गठित की गई और आरोपी की पतासाजी और मामले के खुलासा करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में मृतिका के परिजनों एव साक्ष्यों से पूछताछ किए जाने पर मृतिका का सगा भाई रविन्द्र पिता संतोष बनोटे लगातार अपने बयान बदलता रहा। बार बार बयान बदलने के कारण उस पर संदेह हुआ। फिर संदेह के आधार पर कड़ी पूछताछ किए जाने से उसने मृतिका के साथ बलात्कार कर उसकी चाकू मारकर तथा गला घोंटकर हत्या करना स्वीकार किया।

यह उल्लेखनीय है की खैरलांजी थाने में मृतिका के परिजन जब गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने पहुंचे थे तब आरोपी भी परिजनों के साथ था। इस हत्याकाण्ड का खुलासा करने में थाना खैरलांजी तथा वारासिवनी के अधिकारी कर्मचारियों की प्रमुख भूमिका रही है। पुलिस महानिरीक्षक बालाघाट जोन द्वारा प्रकरण पर 30000 रुपए का नगद इनाम घोषित किया गया था।