दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना वायरस -  नागपुर से पैदल सफर तय करके बालाघाट पहुंचे मजदूर  बसो से पहुंचाया घर

March 28th, 2020

डिजिटल डेस्क  बालाघाट। कोरोना वायरस से काम धंधे बंद हो जाने के कारण मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है, जिससे उनके सामने रोजी-रोटी की समस्या खड़ा हो गई है, ऐसे में वह अब अपने गांव की ओर लौट रहे है बनिस्मत ऐसे ही हालत उन विद्यार्थियों के साथ भी है, जो गांव से आकर बालाघाट मुख्यालय में विभिन्न जगह पर किराये से रहकर पढ़ाई कर रहे है, उनके पास जो खर्च के लिए राशि थी, वह धीरे-धीरे खत्म हो गई है और लॉक डाउन के कारण वह अपने घरों से भी खर्च के लिए राशि नहीं मंगा पा रहे है। जिसके चलते वह और आगामी दिनो तक यहां रहकर अपना खर्च चलाने में असमर्थ है, ऐसी स्थिति में वह भी घर की ओर लौट रहे है। ऐसे ही जिले में निवासरत लगभग 130 छात्र, छात्राओं और लगभग एक दर्जन से ज्यादा मजदूरों को आज उनके घर, बसों के माध्यम से जिला प्रशासन, नपा और आदिवासी विकास परिषद के सहयोग से आज पहुंचाया गया।
नागपुर से पैदल चलकर बालाघाट पहुंचे मजदूर
आज 28 मार्च को लगभग 13 मजदूर नागपुर से पैदल चलते हुए बालाघाट पहुंचे। जिसमें दो महिलायें भी थी। गायखुरी की ओर से आ रहे मजदूरों की जानकारी मिलने के बाद सभी मजदूरों को पॉलीटेक्निक चौराहे के पास रोककर उनके स्वास्थ्य की जांच की गई। जिसके बाद मजदूर कोतवाली थाना से नपा पहुंचे। खुटिया निवासी मजदूर अजय पंचेश्वर ने बताया कि वह गुरूवार को नागपुर से पैदल निकले थे। जिसमें कुछ मजदूर खुटिया, चरेगांव, लामता और वारासिवनी के थे। नगरपालिका में पुलिस विभाग के फोटोग्राफर द्वारा मजदूरों को फल लेकर दिया गया। यहां नगरपालिका सीएमओ दिनेश बाघमारे ने मजदूरों से जानकारी लेकर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव और सावधानी बरतने के भी मजदूरों को निर्देश दिये। दोपहर में नपा से ही बस के माध्यम से मजदूरों को उनके घरों की ओर भिजवाया गया।
130 विद्यार्थियों को भेजा गया घर
जिले के बिरसा, मलाजखंड, बैहर, गढ़ी सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्र से बालाघाट आकर पढ़ाई कर रहे लगभग 130 विद्यार्थियों को जिला प्रशासन, नपा और आदिवासी विकास परिषद जिलाध्यक्ष भुवनसिंह कोर्राम की मदद से बसों के माध्यम से घर भिजवाया गया। विद्यार्थियों ने बताया कि लॉक डाउन के कारण उनके पास आगामी दिनों में स्वयं का खर्च और भोजन के लिए पैसे खत्म हो गये है वहीं घरों से किसी के नहीं आने के कारण आगे का समय उनके लिए कष्टदायक न हो, इसलिए वह अपने घर जाना चाहते है।
नपा करवा रही बेसहारों को भोजन
नपा द्वारा बुढ़ी मार्ग स्थित दिनदयाल रसोई में नगर में निवासरत बेसहारों को दोनो टाईम भोजन करवाया जा रहा है। इसके अलावा नपा कर्मी घूम-घूमकर भी लोगों को भोजन करा रहे है। नपा सीएमओ दिनेश बाघमारे ने बताया कि लॉक डाउन के चलते ऐसे लोग जिनके पास खाना का साधन नहीं है और जो बेसहारे है उनके लिए दोनो समय दिनदयाल रसोई में भोजन बनाकर उन्हें दिया जा रहा है, ताकि लोग लॉक डाउन के दौरान भुखे न सोये।