comScore

मजदूरी मांगने पर रोजगार सहायक और सचिव ने मजदूर की बेटी की अस्मत से किया खिलवाड़

मजदूरी मांगने पर रोजगार सहायक और सचिव ने मजदूर की बेटी की अस्मत से किया खिलवाड़

डिजिटल डेस्क कटनी । सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों का निराकरण करने की बजाए जिम्मेदार कर्मचारी अब इसे बंद कराने के लिए कर्मचारी जोर-जबरदस्ती के साथ मारपीट पर उतारु हो गए हैं। सबसे बड़ा मामला जनपद पंचायत विजयराघवगढ़ के ग्राम पंचायत कुन्दरेही में आया है। यहां पर उस मेहनतकश पसीने की कमाई का करीब 7 हजार रुपए पाने के लिए हेल्पलाइन का सहारा लिया, तो ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक और सचिव मजदूर के सत्रह वर्षीय नाबालिग से छेड़छाड़ की वारदात को अंजाम दिए, और कहा कि यदि शिकायत बंद नहीं कराते तो वे फोटो वॉयरल करते हुए उसे समाज में बदनाम कर देंगे। पुलिस ने तो छेड़छाड़ और पॉक्सो एक्ट का मामला दर्ज कर लिया, लेकिन दागदार सचिव और रोजगार सहायक पर जनपद पंचायत और जिला पंचायत ने किसी तरह की कार्यवाही नहीं की।
पूरे मामले पर नजर
कुन्दरेही का मामला करीब पच्चीस दिन पुराना है। यहां पर मजदूरी मांगने वाले मजदूर की बेटी से जंगल में जाकर पंचायत के रोजगार सहायक धनेश कुमार नामदेव और सचिव सुखनंदन काछी ने मोबाइल छीनने का प्रयास किया। नाबालिग जब मोबाइल नहीं दी, तो उसके साथ छेड़छाड़ की वारदात को अंजाम देते हुए मोबाइल में फोटो खींच ली और वॉयरल करने की धमकी देते हुए चले गए। यह बात नाबालिग ने घर में बताई और परिजनों के साथ थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद दोनों आरोपियों के विरुद्ध धारा 354(क) ,354(घ),  पॉक्सो एक्ट के तहत मामला कायम किया गया।
निलंबन की जगह अभयदान
पुलिस में अपराध दर्ज हो जाने पर प्राथमिक रुप से पंचायत विकास विभाग को निलंबन की कार्यवाही की जानी चाहिए। इसके बावजूद रोजगार सहायक और सचिव को अभयदान दिया गया है। जनपद पंचायत विजयराघवगढ़ ने किसी तरह की कार्यवाही नहीं की। 16 अक्टूबर को नोटिस देते हुए दागदारों को दो दिन का समय देते हुए जवाब मांगा गया, लेकिन अभी तक रोजगार सहायक और सचिव पर किसी तरह से कार्यवाही नहीं हुई है।
इनका कहना है
  पुलिस में दर्ज छेड़छाड़ के मामले की जैसी जानकारी लगी, दोनों को नोटिस देकर जवाब मांगा गया है। फिलहाल जवाब नहीं मिला है। जवाब मिलने के बाद आगे की कार्यवाही की जाएगी।  
प्रभा तेकाम, सीईओ जनपद पंचायत वि.गढ़

कमेंट करें
p2jrv